दहलीज पार नहीं की, फिर भी आ गए कोरोना की चपेट में, इंदौर में 61 ऐसे पॉजिटिव भी मिले, जो कभी घर से निकले ही नहीं



मध्यप्रदेश में कोरोना का हॉटस्पॉट बने इंदौर में अब ऐसे मरीज भी सामने आ रहे हैं, जो घर से बाहर कभी नहीं निकले. न वे किसी के कॉन्टैक्ट में आए हैं और न ही वे कहीं गए. जैसा उन्होंने बताया. ऐसे मरीजों को लेकर अब स्वास्थ्य विभाग पशोपेश में है कि आखिरकार ऐसे लोग किस कारण से कोरोना का शिकार बन गए. विभाग के लिए यह बड़ी चिंता का विषय बन गया है कि जो लोग घरों से ही नहीं निकल रहे हैं, वो कैसे संक्रमित हो रहे हैं. इंदौर में कोरोना संक्रमण दिनों दिन तेज होता जा रहा है, रोज बड़ी संख्या में मरीज मिलने से स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन भी परेशान है.


इंदौर में अब स्वास्थ्य अधिकारी इस बात की जांच में लगे हैं कि सख्त लॉकडाउन के बावजूद इतनी बड़ी संख्या में मरीज किस कारण संक्रमित हो रहे हैं. 50 फीसदी मामलों में तो मरीज की कांटेक्ट हिस्ट्री या ट्रैवल हिस्ट्री पता नहीं लग पा रही है. शहर में सबसे ज्यादा संक्रमित मरीज खजराना इलाके में मिले हैं. अब तक यहां 178 मरीज सामने आ चुके हैं. जब इन मरीजों से पूछताछ की गई तो पता चला कि कुछ मरीज सामान्य बीमारियों के इलाज के लिए अस्पताल गए थे और संक्रमण का शिकार हो गए. वहीं कुछ लोग संक्रमित मृतकों के जनाजे में जरूर शामिल हुए थे.

इन मरीजों ने बढ़ाई चिंता
स्वास्थय विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक इंदौर में कोरोना से संक्रमित 61 मरीज ऐसे थे, जो न तो घर से बाहर निकले और न कहीं गए. कोरोना का हॉटस्पॉट बने इस एरिया में रहने के चलते ही वे संक्रमित हो गए. जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग अब तक ये पता नहीं लगा पाया है कि आखिरकार ये किस वजह से संक्रमित हुए. इंदौर का खजराना इलाका हालांकि देश विदेश में अपने गणेश मंदिर के लिए प्रसिद्ध है लेकिन फिलहाल ये क्षेत्र कोरोना का सबसे बड़ा हॉटस्पॉट बना हुआ है. इस इलाके में अब तक 178 मरीज पॉजिटिव मिल चुके है क्षेत्र के मरीजों से जब पूछताछ कर उनके संक्रमित होने के बारे में जानकारी ली गई तो ज्यादातर ये नहीं बता पाए कि वे कैसे संक्रमित हुए.


नहीं बता पाए हिस्ट्री
पूछताछ में सामने आया है कि 15 लोग ऐसे हैं जो सामान्य बीमारियों जैसे थायराइड, बुखार, पीलिया, डायलिसिस के इलाज के लिए अस्पताल गए उन्हें बांबे हॉस्पिटल, मयूर अस्पताल, एमवाय अस्पताल, विशेष अस्पताल, अरबिंदो अस्पताल में भर्ती किया गया, वहीं वे संक्रमित हो गए. इनसे मिलने आने वाले लोग भी संक्रमित हुए. वहीं गोकुलदास अस्पताल में भर्ती एक मरीज की मौत के बाद उनके जनाजे में 10 लोग गए वे संक्रमित हो गए. इसी तरह एक दूसरे संक्रमित मरीज के जनाजे में भी चार लोग गए जो खुद संक्रमित हो गए, लेकिन 61 लोग ये नहीं बता पाए कि वे कैसे संक्रमित हुए.

महंत अपार्टमेंट बन गया हॉटस्पॉट
इंदौर के मल्हारगंज थाने से सटा महंत अपार्टमेंट कोरोना का नया हॉटस्पॉट बन गया है यहां 11 नए मरीज सामने आए हैं. इन्हें मिलाकर अब तक इस मल्टी में कुल 70 लोग पॉजिटिव हो चुके हैं. ये शहर में किसी इमारत में मिले सबसे ज्यादा मरीज हैं. इतनी बड़ी संख्या में तो एक क्षेत्र में भी मरीज सामने नहीं आए हैं. 85 फ्लैट्स की इस बिल्डिंग में स्वास्थ्य विभाग 330 लोगों की जांच कर चुका है जिसमें से 70 पॉजिटिव निकले जिनमें से 3 मरीज ठीक होकर घर लौट आए, जबकि एक बुजुर्ग की मौत भी हो गई.



Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc