दिल चाहता है





दिल चाहता है मेरा
बन के बयार उड़ जाऊं,
पंछियों की तरह
नभ में जा इठलाऊं।

दिल चाहता है मेरा
किसी झरने की तरह
निर्झरो में बहता जाऊं
फूलों की तरह महकुं और
गुलशन को महकाऊं।

दिल चाहता है मेरा
चिड़ियों की तरह चहकूं
कोयल सा राग सुनाऊं
बादल की तरह बरसूं
धरती की प्यास बुझाऊं।

दिल चाहता है मेरा
बन के सितारा
अम्बर पर छा जाऊं।
दिल..

- पद्मा सोनी     




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc