प्लेन की सफेदी के पीछे यह है बजह




कभी सोचा है कि हवाई जहाज का रंग सफेद क्यों होता है? शायद आपने ध्यान भी नहीं दिया होगा, लेकिन इसके पीछे कई वजहें हैं, जिन्हें शायद आप जानते भी नहीं होंगे. प्लेन का रंग सफेद होने के वैज्ञानिक और इकोनॉमिकल वजहें हैं. 



मोहित श्रीवास्तव 


प्लेन को सफेद रखने की सबसे बड़ी वजह गर्मी से बचाना है. प्लेन रनवे से लेकर आसमान तक धूप में ही रहते हैं. उन पर सीधे सूरज की किरणें पड़ती हैं, किरणों में इंफ्रारेड रेज होती हैं जिससे भयंकर गर्मी पैदा होती है. ऐसे में सफेद रंग प्लेन को गर्म होने से बचाता है. सफेद रंग एक अच्छा रिफ्लेक्टर होता है. ये सूर्य की किरणों को 99 परसेंट तक रिफ्लेक्ट कर देता है जिससे प्लेन गर्म नहीं होते हैं. 


इसके अलावा सफेद प्लेन में किसी तरह का डेंट या क्रैक होने पर आसानी से देखा जा सकता है. प्लेन का कोई और कलर होगा तो वो छिप जाएगा. दूसरे रंगों की तुलना में सफेद रंग की विजिबिलीटी ज्यादा होती है. आसमान में सफेद प्लेन को आसानी से देखा जा सकता है, जिससे एक्सीडेंट होने से बच सकते हैं. दूसरे कलर्स की तुलना में सफेद रंग का वजन कम होता है. इसलिए जब प्लेन को सफेद रंग से रंगा जाता है तो रंग के कलर से प्लेन का भार ज्यादा नहीं होता है. 

जानकारों की मानें तो सफेद रंग के जहाज की रीसेल वैल्यू ज्यादा होती है. इसके अलावा हमेशा धूप में रहने की वजह से कोई और रंग होगा तो उसके खराब होने का खतरा ज्यादा होता है. लेकिन सफेद रंग जल्दी खराब नहीं होता है. इससे प्लेन को बार-बार पेंट नहीं कराना पड़ता है. 




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc