'शुद्ध के लिये युद्ध' का यह मतलब कतई नहीं है कि ईमानदारी से बिना मिलावट क्रय-विक्रय करने वालों को परेशान किया जाए - मंत्री श्री सिलावट





भोपाल सभी लोगों को शुद्ध खाद्य पदार्थ मिलें, इसके लिए मिलावटखोरों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है, इसका यह मतलब कतई नहीं है कि ईमानदारी से बिना मिलावट शुद्ध खाद्य पदार्थ के क्रय-विक्रय करने वालों को परेशान किया जाए. यह बात भोपाल संभाग में 'शुद्ध के लिये युद्ध' अभियान की समीक्षा करते हुए मंत्री श्री सिलावट ने कही. 
महेश दुबे   

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि ईमानदारी से बिना मिलावट किये शुद्ध खाद्य पदार्थों का क्रय-विक्रय करने वालों को परेशान करने की शिकायत पर अधिकारियों के विरुद्ध भी सख्त कार्यवाही की जायेगी। मंत्री श्री सिलावट आज मंत्रालय में 'शुद्ध के लिये युद्ध' अभियान में भोपाल संभाग में की जा रही कार्यवाही की समीक्षा कर रहे थे।

मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि भोपाल नगर के खाद्य पदार्थों का विक्रय करने वाले रेस्टॉरेंट, होटल और अन्य व्यापारियों ने अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री श्री आरिफ अकील को ज्ञापन सौंप कर अवगत कराया था कि कुछ अधिकारियों द्वारा अभियान में कार्यवाही का डर दिखाकर व्यापारियों को परेशान किया जा रहा है। इस पर मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि उन्होंने व्यापारियों को आश्वस्त किया है कि किसी को भी अनावश्यक परेशान करने की सरकार की मंशा नहीं है, लेकिन मिलावटखोरों के खिलाफ चलाये जा रहे 'शुद्ध के लिये युद्ध' अभियान में कतई ढिलाई नहीं दी जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में दूध, दूध उत्पाद, खाद्य तेल, मसाले आदि में केमिकल्स और विभिन्न प्रकार के हानिकारक पदार्थों की मिलावट कर आम आदमी की जिंदगी से खिलवाड़ करने की इजाजत किसी को नहीं दी जा सकती। शासन इस बात की भी गारंटी लेता है कि कोई भी व्यापारी ईमानदारी से निर्भय होकर व्यापार करे, उसे कोई परेशान नहीं करेगा। ऐसे अधिकारी, जो अभियान की आड़ में व्यापारियों को डराने आदि का कृत्य करेंगे, उनके खिलाफ भी सख्त कार्यवाही की जायेगी।

मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि सभी वरिष्ठ अधिकारी इसे सुनिश्चित करें कि मैदानी अमला अभियान को ईमानदारी से चलाये और जिस किसी अधिकारी के खिलाफ शिकायत मिले, उसकी तत्काल जाँच करें और सही पाये जाने पर संबंधित के खिलाफ सख्त कार्यवाही भी करें। बैठक में संभागायुक्त श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव, नियंत्रक खाद्य एवं औषधि प्रशासन रवीन्द्र सिंह, कलेक्टर तरुण पिथोड़े, आई.जी., डी.आई.जी. और अन्य अधिकारी मौजूद थे।




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc