सरकारी तंत्र में भर्राशाही की हद, जो काम 2 साल में नहीं हुआ अब कलेक्टर के निर्देश पर 24 घंटे में होगा


सरकारी तंत्र में कितनी भर्राशाही मची हुई है, यह इस बात से अन्दाजा लगा लीजिये कि जो काम एक दिन में हो सकता था, उस काम के लिए एक सरकारी कर्मचारी ही सालों से चक्कर काट रहा है. यह बात उस समय सामने आई जब शहडोल कलेक्टर ललित दाहिमा जनसुनवाई कार्यक्रम के तहत आवेदन लेकर आए लोगों की समस्याओं को सुन रहे थे.  

जनसुनवाई में पहुंचे रामकुमार वर्मा ने कलेक्टर श्री दाहिमा को बताया कि वह लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग में पदस्थ था और वर्ष 2017 में सेवा से रिटायर्ड हो गया है. रामकुमार ने बताया कि लेकिन रिटायर्ड हो जाने के दो साल बाद भी अभी तक पेंशन नहीं दी गई है. इतना सुनते ही कलेक्टर श्री दाहिमा भी भौंचक्के रह गए. संवेदनशील कलेक्टर श्री दाहिमा ने तत्काल जिला कोषालय अधिकारी एवं जिला पेंशन अधिकारी को कलेक्टर सभाकक्ष में तलब किया और इस संबंध में आवश्यक जानकारी ली. कलेक्टर श्री दाहिमा ने कड़े शब्दो में निर्देश दिया कि 24 घंटे के अंदर रामकुमार वर्मा को पेंशन दी जाए. मतलब साफ़ है कि जो काम एक दिन में हो सकता था, पिछले 2 साल से पेंडिंग बना हुआ था. 

जनसुनवाई में ग्राम तगावर तहसील जयसिंहनगर निवासी महेंद्र ने आवेदन देकर बताया कि ग्राम बराछ के शालिग्राम पटेल बगैरह द्वारा भू-अभिलेखों में कूटरचित दस्तावेज कर ग्राम बराछ के पटवारी हल्का क्रमांक 05 वृत्त आमडीह के आराजी क्रमांक 271 रकबा 1.98 एकड़ गिरधौना नामक बगार एवं 0.2 एकड़ एवं रकबा क्रमांक 894 0.36 एकड़ कोलान कोलिया व खसरा क्रमांक 896 रकवा 0.29 एकड़ ढ़ोढवा नामक पुलिया तथा 891/3052 रकबा 0.7 एकड़ शासकीय सार्वजनिक रास्ता में शालीग्राम, सविता, विजय कुमार तीनों ग्राम बराछ थाना ब्यौहारी तहसील जयसिंहनगर में अपने परिजन एवं जनपद सदस्य जयसिंहनगर के कार्यकाल के दौरान संबंधित पटवारी हल्का बराछ को मिलाकर अवैधानिक तरीकों से भू अभिलेखों में कूटरचित हेरा फेरी की गई है. मामले में कलेक्टर श्री दाहिमा ने एसडीएम जयसिंहनगर को जांच कर आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देष दिए. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc