सैयां कोतवाल, बैंक अध्यक्ष ने बैंक से पत्नी के नाम 70 लाख कर्ज लेकर मकान बनाया, अब बैंक को किराए पर देकर किश्त चुकायेंगे


घोटाले में भी अक्ल जरूरी होती है, देखना चाहो तो विदिशा सहकारी बैंक अध्यक्ष श्याम सुन्दर शर्मा को देख लो. 'सैयां बने कोतवाल, अब डर कहे का..?' स्थानीय अखबार विदिशा एक्सप्रेस के अनुसार आम लोग रोजगार के लिए छोटे मोटे कर्ज के लिए भटकते रहते हैं वहीं ये अध्यक्ष जो हैं, सो उन्होंने बैंक से संयुक्त रूप से पत्नी के नाम 70  लाख कर्ज निकाल लिया है.  

विदिशा एक्सप्रेस में पत्रकार श्री भरत राजपूत जी की खबर के अनुसार विदिशा सहकारी बैंक अध्यक्ष श्याम सुन्दर शर्मा पर कई अनियमितताओं की शिकायत सामने आई है. अध्यक्ष श्याम सुन्दर शर्मा द्वारा प्रमुख रूप से अपने चहेतों को गलत तरीके से लाभ पहुंचाया जा रहा है. यही नहीं अपनी पत्नी के नाम 70 लाख का लोन निकाल लिया और अब किश्त चुकाने के लिए बैंक की ठर्र शाखा को अपने नए मकान  में किराए पर देने की तैयारी की जा रही है, ताकि 70 लाख की किश्त चुकाई जा सके. पूरी खबर देखें विदिशा एक्सप्रेस के हाल के जून 19 अंक में. 


खबर पर आई कुछ ख़ास प्रतिक्रियायें - 

श्री उमा शंकर वैध्य जी लिखते हैं भाई साहब हम भी लोन लेने गए थे लेकिन हमें इतनी कागजी कार्यवाही बता दी गई जब मायूस होकर वापस लौट आए अब आप जैसे कलम के जादूगर लोगों को सहायता करेंगे

विदिशा से ही पूर्व में बैंक अध्यक्ष रहे वावुलाल ताम्रकार के पुत्र बीजेपी नेता श्री  सचिन ताम्रकार जी का कहना है मैं समझता हूं कि कर्ज देना बैंक का व्यवसाय है और कर्ज लेना प्रत्येक नागरिक का अधिकार, इसमे कुछ गलत नहीं, लेकिन अपना मकान बैंक को किराये पर देना, अध्यक्ष रहते हुए बैंक से लाभ अर्जित करना आर्थिक अपराध है, नैतिकता के आधार पर अध्यक्ष जी को इस्तीफा दे देना चाहिए और अध्यक्ष का चार्ज उपाध्यक्ष को दे दिया जाना चाहिए.

श्री रवि चौरसिया जी लिखते हैं हमारा लोन आज तक नहीं हुआ, 2 साल हो गए बैंक के चक्कर लगाते हुए...

श्री शैलेन्द्र सिंह जी लिखते हैं ऐसे चोरों को जेल भेजो , यह हमारे मोदी के दोस्त नही दुश्मन हैं, यह नेता नही, यह व्यापारी हैं ..

श्री राजेश शर्मा जी लिखते हैं आम नागरिक को 50 हज़ार लोन बैंक नही देती. बेचारा चक्कर काटता फिरता है और इनको 70 लाख. सही बात है, जब सैया भए अध्यक्ष तो डर काहे का...



Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc