रोक की अवधि घटाने प्रज्ञा ने लगाई गुहार, 'माफ़ करें आगे से ऐसा कुछ नहीं करूंगी'


भोपाल से BJP प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने आज गुरुवार को निर्वाचन आयोग को पुनर्विचार के लिए आवेदन देकर प्रचार पर रोक की अवधि 72 घंटे से घटाकर 12 घंटे किए जाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा है मैं आयोग को यह भी विश्वास दिलाती हूं कि भविष्य में मेरे द्वारा ऐसा कोई कथन या कृत्य नहीं किया जाएगा। 

प्रज्ञा ठाकुर की तरफ से दिए गए आवेदन में कहा गया है,‘मैंने हेमंत करकरे को लेकर जो कुछ भी कहा, उसके लिए क्षमा याचना भी की और अपना कथन वापस ले लिया। मैं आयोग को यह भी विश्वास दिलाती हूं कि भविष्य में मेरे द्वारा ऐसा कोई कथन या कृत्य नहीं किया जाएगा, जिस कारण आदर्श आचार संहिता या निर्वाचन विधि या केंद्र और राज्य के किसी भी विधि का उल्लंघन हो। इसके साथ ही यह विश्वास दिलाती हूं कि भविष्य में मेरे द्वारा आयोग को कोई शिकायत नहीं मिलेगी।’

प्रज्ञा ने इस आवेदन में 9 साल कारावास की अवधि मे मिली यातनाओं का भी जिक्र किया और साथ ही अपने बयान पर खेद जताने पर आयोग द्वारा ध्यान न दिए जाने की बात कही है। बीजेपी उम्मीदवार ने आयोग से प्रचार के लिए बहुत कम समय होने का हवाला देते हुए कहा,‘भोपाल में 12 मई को मतदान होना है, 10 मई को प्रचार थम जाएगा। प्रचार पर लगाई गई रोक की अवधि को 72 घंटे से घटाकर 12 घंटे किया जाए।’

उल्लेखनीय है कि आयोग ने प्रज्ञा ठाकुर के चुनाव प्रचार पर गुरुवार सुबह 6 बजे से 72 घंटे तक प्रचार करने पर रोक लगाई है। इससे पहले प्रज्ञा को चुनाव आयोग द्वारा दो नोटिस जारी किए जा चुके हैं। एक नोटिस टीवी साक्षात्कार के दौरान उनके बयान को लेकर जारी किया गया था और दूसरा नोटिस पूर्व एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे के खिलाफ बयान देने को लेकर दिया गया था।
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc