प्रयागराज के बड़े हनुमान मंदिर के कर्ता-धर्ता, योग गुरु आनंद गिरी महिलाओं से अमर्यादित आचरण पर ऑस्ट्रेलिया में गिरफ्तार




योग गुरू स्वामी आनंदगिरि को ब्रिटेन की पार्लियामेंट में अंतरराष्ट्रीय योग गुरु का अवॉर्ड मिल चुका है. वे युवाओं को आध्यात्मिक, वैदिक और योग साधना से जीवन का मंत्र सिखाने वाले के रूप में भी पहचाने जाते रहे हैं.

प्रयागराज के लेटे हनुमान मंदिर के छोटे महंत, व्यवस्थापक व योग गुरु आनंद गिरि को ऑस्ट्रेलिया में गिरफ्तार कर लिया गया है. उन पर 29 व 34 साल की की दो महिलाओं ने अमर्यादित आचरण करने का आरोप लगाया है. अब उन्हें 26 जून को कोर्ट में पेश किए जाने तक पुलिस हिरासत में रहना होगा.  

दोनों महिलाओं ने आरोप लगाया है कि एक सत्संग कार्यक्रम के दौरान उन्होंने उनके साथ अमर्यादित आचरण, मारपीट और अभद्रता किया. ऑस्ट्रेलिया की मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक यह मामला वर्ष 2016 से चल रहा था.  


योगगुरु आनंद गिरि पिछले दिनों योग और सत्संग के कार्यक्रम में आस्ट्रेलिया गए थे. सोमवार को उन्हें आस्ट्रेलिया से निकलना था. रविवार को दोपहर 12:35 बजे पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया. बताया जा रहा है कि 2016 में एक घर में सत्संग के दौरान 29 साल की एक महिला ने योगगुरु पर कमरे में अभद्रता और मारपीट का आरोप लगाया. बाद में नवंबर 2018 में पुलिस से एक और 34 वर्ष की महिला ने भी उसके साथ आनंद गिरि द्वारा मारपीट की शिकायत की थी. 

स्वामी आनंद गिरि प्रयागराज लेटे हनुमान मंदिर के छोटे महंत हैं और निरंजन अखाड़े के पदाधिकारी हैं. एक जानकारी के अनुसार 33 साल के योगगुरु स्वामी आनंद गिरी अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी महाराज के शिष्य हैं और बाघम्बर अखाड़े से जुड़े हुए हैं. आनंद गिरी ने सीएम योगी आदित्यनाथ से भी कम उम्र में संन्यास लिया था. दीक्षा के समय योगी जहां 22 साल के थे, वहीं आनंद ने महज 12 साल की उम्र में नरेंद्र गिरी के संरक्षण में दीक्षा ली.

योग गुरू स्वामी आनंदगिरि को ब्रिटेन की पार्लियामेंट में अंतरराष्ट्रीय योग गुरु का अवॉर्ड मिल चुका है. वे युवाओं को आध्यात्मिक, वैदिक और योग साधना से जीवन का मंत्र सिखाने वाले के रूप में भी पहचाने जाते रहे हैं.

लेटे हनुमान मंदिर के बड़े महंत अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और निरंजनी अखाड़े के सचिव महंत नरेंद्र गिरि का कहना है कि हमारे यहां संस्कृति है कि जब शिष्य पांव छूते हैं तो उनकी पीठ थपथपाई जाती है, यही हुआ. इस पर महिला ने विरोध किया. जिस पर स्वामी आनंद गिरि के समर्थकों और महिला में कहासुनी हो गई. 


Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc