आखिर क्यों बन गई एक करुणामयी मां, कलयुगी माँ, दबा गई बेटे का गला?


एक तरफ जहां 'मां' शब्द कहने से जहाँ मानवता करुणा एवं दया के भाव का समुंदर उमड़ने लगता है वहीं दूसरी ओर मानवता को शर्मसार करने वाली यह घटना सामने आई है. निश्चित रूप से यह गंभीर बात है. अंधे क़त्ल का पर्दाफ़ाश तो पुलिस ने कर दिया है. इसके लिए उसे बहुत मेहनत करनी पड़ी होगी. अब इसके पीछे की असली बजह के पीछे हमें समाज को जाकर कारण खोजने होंगे और उन्हें ख़त्म करना होगा. 


एक मां अपने बेटे की गला घोट कर हत्या कर सकती है, कोई ऐसा सोच भी कैसे सकता है? लेकिन आज हालात विकट हैं. मंदसौर जिले के शामगढ क्षेत्र के मेलखेडा गांव से एक ऐसी ही घटना सामने आई है. 

घटना एक वर्ष पुरानी 13 मई 18 की है. बताया जा रहा है 2 साल 6 माह का बालक गौरव, जो अधिक रोता था. उसके रोने से उसकी माँ सोनु सेन परेशान थी. 13 मई 18 की सुबह भी गौरव जब सो कर उठा तो रोने लगा, उसकी माँ को ये रोज रोज का रोना नागवार गुजरा और गुस्से में आकर उसने मफलर से उसका गला घोटकर हत्या कर दी. 

उसको मेलखेड़ा से गरोठ अस्पताल ले जाया गया, जहाँ उसे मृत घोषित कर दिया गया. डाक्टरी जांच में इस अन्धे कत्ल का पता चला कि बालक की मृत्यु गला घोटने से हुई है. पुलिस ने गम्भीरता से जाँच की तो पता चला कि बच्चे की हत्या करने वाली कोई और नहीं, खुद उसकी अपनी जन्म देने वाली माँ ही है.  

शामगढ पुलिस ने मृतक पुत्र गौरव की माँ सोनु सेन को गिरफ्तार कर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर न्यायालय में पेश किया. बच्चे की ह्त्या मां ने ही की है कोई सोच भी कैसे सकता है, ऐसे में अंधे कत्ल का पर्दा फाश करने में शामगढ़ पुलिस का सराहनीय योगदान रहा, इसके लिए थाना प्रभारी संजय चौकसे एवं उनकी टीम को एस पी द्वारा सम्मानित किया जाएगा, की बात की गई है. 

- चित्रांश 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc