राज्यपाल आनंदीबेन का ध्यान गया शैक्षणिक गुणवत्ता पर, कहा 'विद्यार्थियों को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने का प्रयास करें'




मध्यप्रदेश में राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल का ध्यान शैक्षणिक गुणवत्ता पर गया है. उन्होंने कहा है कि विद्यार्थियों को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने का प्रयास करें. शैक्षणिक गुणवत्ता को समय की माँग के अनुरूप बनायें. पाठ्यक्रमों में रोजगार-मूलक कम्प्यूटर कोर्स शामिल करें. विद्यार्थियों को तनाव से मुक्त करने के लिये स्ट्रेस मैनेजमेंट कोर्स को प्रभावी बनाने की दिशा में पहल की जाये.
करुणा राजुरकर      


उन्होंने आज राजभवन में आयोजित राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) की हाई ग्रेडिंग प्राप्त करने के लिये रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय, जबलपुर और देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर द्वारा किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की. राज्यपाल ने निर्देश दिये कि नैक के मापदण्ड के अनुसार कार्य सुनिश्चित करें. सामाजिक महत्व के कार्यों का भी आंतरिक मूल्यांकन किया जाये.


राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि विद्यार्थियों को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने का प्रयास करें. शैक्षणिक गुणवत्ता को समय की माँग के अनुरूप बनायें. पाठ्यक्रमों में रोजगार-मूलक कम्प्यूटर कोर्स शामिल करें. विद्यार्थियों को तनाव से मुक्त करने के लिये स्ट्रेस मैनेजमेंट कोर्स को प्रभावी बनाने की दिशा में पहल की जाये.

बैठक में दोनों विश्वविद्यालयों द्वारा प्रेजेंटेशन के माध्यम से तैयारियों का प्रस्तुतीकरण किया गया. इस मौके पर अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा सुश्री सलीना सिंह, राज्यपाल के सचिव श्री डी.डी. अग्रवाल, आयुक्त उच्च शिक्षा श्री राघवेन्द्र सिंह, दोनों विश्वविद्यालयों के कुलपति और बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के डॉ. आलोक राय उपस्थित थे.




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc