देश के युवा को रोजगार की जरूरत है, छद्म हिंदुत्व और छद्म राष्ट्रवाद की नहीं


''विविधताओं से भरा ये देश और अनेकता में एकता ही इसकी पहचान है. देश के युवा को रोजगार की जरूरत है, छद्म हिंदुत्व और छद्म राष्ट्रवाद की नहीं. वो गंगा मैया, जिन्होंने आप को बनारस बुलाया था न, आज कल कराह रही है. सरकारें आएँगी और जाएँगी, दल बनेंगे और बिगड़ेंगे, लेकिन देश का लोकतंत्र अमर रहना चाहिए.'' 



सचिन आर. पांडेय  

देशभक्ति पहले भी थी, अब भी है, और हमेशा रहेगी. न तो राष्ट्र किसी दल का मोहताज है, ना ही राष्ट्रभक्ति.

एक चीज जो मेरी समझ में आई है, वो ये है कि आज कल लोग य़ा तो अंधविरोध में लीन हो गए हैं या फिर अंधभक्ति में. और देश से बड़ा दल हो चला है.

सरकार की कुछ योजनायें स्वागत योग्य और प्रंससनीय हैं तो कुछ मुद्दो पर असफल भी. महँगाई बढ़ी है और रूपया गिरा है. पेट्रोल-ड़ीजल गैस के दाम लोगों की कमर तोड़ रहे हैं. 

काला धन नहीं आया और बैंकों की काली करतूत जारी है. बीजेपी के हाईटेक कार्यालय तो जरूर बने, लेकिन अब भी राम लला टेंट में हैं, जबकि दोनों जगह बीजेपी की सरकार है.

आदिवासियों की जमीन ले ली गयी, जिस पर माननीय उच्च्तम न्यायालय को संज्ञान लेना पड़ा और जमीन वापस करनी पड़ी. आज भी हमारे सैनिक शहीद हो रहे हैं और लाशों पे राजनीति का नँगा नाच जारी है.

370 जस का तस है और बेरोजगारों के लिए रोजगार के नाम पर पकौड़ा योजना है और ऐसे में मुझ जैसे आम नागरिक को वोट करना है.

सरकार से मेरे मतभेद हैं, लेकिन माननीय प्रधानमंत्री जी के व्यक्तित्व के समक्ष कोई खड़ा नज़र नहीं आता और इसलिए देश हित में आवश्यक हो जाता है कि एक स्थिर सरकार बने, अतः मजबूर होकर बीजेपी को वोट करना है.

माफ़ करें पीएम साहब आप मेरी पसंद नहीं, लेकिन मजबूरी अवश्य हैं. 
पूरी उम्मीद है कि आप सत्ता में आएंगे देश हित में काम करेंगे और किसी से उसकी देशभक्ति का प्रमाण आप के नेता और कार्यकर्ता नहीं मागेंगे.

विविधताओं से भरा ये देश और अनेकता में एकता ही इसकी पहचान है. देश के युवा को रोजगार की जरूरत है, छद्म हिंदुत्व और छद्म राष्ट्रवाद की नहीं. 

और अंत में     
वो गंगा मैया, जिन्होंने आप को बनारस बुलाया था न, आज कल कराह रही है, जरा उनका भी ध्यान धरिये.
"सरकारें आएँगी और जाएँगी, दल बनेंगे और बिगड़ेंगे, लेकिन देश का लोकतंत्र अमर रहना चाहिए"

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc