छिंदवाड़ा जिला अस्पताल में लापरवाही, सिजेरियन डिलेवरी के दौरान नवजात का हाथ टूटा, एक जच्चा-बच्चा की मौत


''छिंदवाड़ा जिला अस्पताल में लापरवाही का बड़ा मामला सामने आया है, जहां सिजेरियन डिलेवरी के दौरान नवजात के हाथ की हड्डी टूट गई है. परिजनों ने स्टाफ पर लापरवाही का आरोप लगाया है. वहीं सिविल सर्जन इसे सामान्य बात बता रहे हैं. एक अन्य घटना में प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की मौत हो गई,  जिससे बाद गुस्साए परिजनों ने जमकर हंगामा किया है.''

छिंदवाड़ा जिला अस्पताल में लापरवाही का मामला सामने आया है, प्रसव के लिए एक महिला को भर्ती कराया गया था. जहां सिजेरियन डिलेवरी के दौरान नवजात के हाथ की हड्डी टूट गई है. वहीं परिजनों ने स्टाफ पर लापरवाही का आरोप लगाया है. एक अन्य घटना में प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की मौत हो गई. जिससे बाद गुस्साए परिजनों ने जमकर हंगामा किया है.

दरअसल, मोरडोंगरी की रहने वाली शशि को प्रसव के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां ऑपरेशन के बच्ची पैदा हुआ लेकिन उसके हाथ की हड्डी टूट गई. जिसके बाद नवजात को भर्ती कर लिया गया है. वहीं परिजनों का आरोप है कि जब ऑपरेशन के बच्चा पैदा हुआ है तो हाथ कैसे फैक्चर हो गया. उन्होंने कहा कि यह स्टाफ के लापरवाही की वजह से हुआ है.

जच्चा-बच्चा की मौत
कुंडालीकलां गांव की रहने वाली प्रसूता श्याम कुमारी को डिलिवरी के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां ऑपरेशन के दौरान मां-बच्चे की मौत हो गई. जिसके बाद गुस्साए परिजनों ने अस्पताल में तोड़फोड़ करते हुए जमकर हंगामा किया. वहीं डॉक्टरों का कहना हैं कि मां के पेट में पहले ही बच्चे की मौत हो गई थी जिसकी वजह से मां भी नहीं बच पाई.

डॉक्टर ने बताया सामान्य प्रकिया
वहीं जब इस बारे में अस्पताल के सिविल सर्जन सुशील राठी से बात की गई, तो उन्होंने इसे सामान्य बताया. उन्होंने कहा कि इस प्रकार घटनाएं डिलिवरी के दौरान होना आम बात है. किसी ने जान बूझकर बच्चे को चोट नहीं पहुंचाई है. उसका इलाज चल रहा है डेढ़ माह में बच्चा ठीक हो जाएगा.  
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc