क्या सच में आतंकी हमले का पहला बदला मास्टरमाइंड कामरान को मार कर ले लिया गया?



''आज सोमवार सुबह से ही पुलवामा से करीब 10 किलोमीटर दूर पिंगलन में एनकाउंटर जारी है। मुठभेड़ में सेना के चार जवान शहीद हो गए। एक आम नागरिक के भी मारे जाने की खबर है। खबर मिली थी कि इलाके में 2-3 आतंकी छिपे हैं। एनकाउंटर में सेना ने जैश के दो आतंकियों को मार गिराया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मारे गए आतंकियों में एक नाम जैश के सबसे बड़े कमांडर और पुलवामा का मास्टरमाइंड कामरान था। बताया जा रहा है जहां वो छुपा था, आर्मी ने उस घर को ही उड़ा दिया, हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है।''


पुलवामा में सीआरपीएफ पर हुए आतंकी हमले का पहला बदला ले लिया गया है। सेना ने जैश के दो आतंकियों को मार गिराया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मारे गए आतंकियों में एक नाम जैश के सबसे बड़े कमांडर और पुलवामा का मास्टरमाइंड कामरान था। बताया जा रहा है जहां वो छुपा था आर्मी ने उस घर को ही उड़ा दिया, हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

आज सोमवार सुबह से ही पुलवामा से करीब 10 किलोमीटर दूर पिंगलन में एनकाउंट जारी है। मुठभेड़ में सेना के चार जवान शहीद हो गए। एक आम नागरिक के भी मारे जाने की खबर है। खबर मिली थी कि इलाके में 2-3 आतंकी छिपे हैं। पिछले चार दिन में राज्य में आतंकी घटनाओं में 45 जवानों की जान जा चुकी है।

आज सोमवार को शहीद हुए चारों जवान 55 राष्ट्रीय राइफल्स के थे। इनमें मेजर वीएस धौंदियाल, हवलदार शिवराम, सिपाही अजय कुमार और सिपाही हरि सिंह शामिल हैं। इससे पहले 14 फरवरी को पुलवामा में हुए फिदायीन हमले में 42 जवान शहीद हुए थे। वहीं, शनिवार को राजौरी के नौशेरा सेक्टर में एक आईईडी को नाकाम करते वक्त सेना के मेजर चित्रेश बिष्ट शहीद हो गए थे।

क्या सच में मारा गया पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड?
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सेना को इलाके में तीन आतंकियों के छिपे होने की खबर मिली थी। कहा जा रहा है कि इनमें पुलवामा हमले की साजिश रचने वाला अब्दुल रशीद गाजी भी था। अभी तक कोई और ज्यादा जानकारी आतंकियों को मार गिराया है या जैश के सबसे बड़े कमांडर और पुलवामा का मास्टरमाइंड कामरान, जहां वो छुपा था आर्मी ने उस घर को ही उड़ा दिया, का कोई फोटो प्राप्त नहीं हुआ है।
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc