बोगस कंपनियों को करोड़ों का कर्ज बांटने के आरोपी मोहंती को चीफ सेक्रेटरी बनाने पर कमलनाथ सरकार को नोटिस



''भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे सुधिरंजन मोहंती को मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा मध्यप्रदेश का चीफ सेक्रेटरी बनाए जाने पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से सफाई मांगी है. इस बारे में दायर जनहित याचिका स्वीकार करते हुए मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई की पीठ ने सरकार को नोटिस जारी कर छह हफ्ते में जवाब माँगा है.''

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के समय याचिका पर संभावित अंतरिम आदेश का विरोध करने के लिए सितारा वकील कपिल सिब्बल, विवेक तनखा और रोहतगी मौजूद थे. जस्टिस गोगोई ने कहा जब हम मामले का विस्तार से परीक्षण करेंगे तब उन्हें सुनेंगे. 

तत्कालीन मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह के भरोसेमंद अफसरों में गिने जाने वाले मोहंती पर उन्ही के कार्यकाल में औद्योगिक विकास निगम का प्रबंध संचालक रहते नियम कानून को दरकिनार कर बोगस कंपनियों को करोड़ों का कर्ज बांटने का आरोप है. 

यह जानना दिलचस्प होगा कि मोहंती का फेवर करते हुए हाईकोर्ट में हलफ़नामाँ दायर करने पर तेजतर्रार चीफ सेक्रेटरी विजयसिंह की तब के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने रातों-रात छुट्टी कर दी थी. एडवोकेट मनोहर दलाल ने याचिका में आरोप लगाया है कि मोहंती के चीफ सेक्रेटरी बनते ही 11 साल पुरानी जांच हफ्ते भर में खत्म कर उन्हें क्लीनचिट दे दी गई.
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc