सामजिक संगठनों ने की बीआरटीएस और साइकिल ट्रैक सुधारने की माँग, साइकिल ट्रैक पर चलें ई बाइक भी


''होशंगाबाद रोड पर कुल 10 लेन की सड़क होने के बाद भी बीआरटीएस और साइकिल ट्रैक के गलत इम्प्लीमेंटेशन और डिजाइन की अनेक तकनीकी त्रुटियों के कारण वहां लगातार जाम लगा रहता है, जिससे वहां के रहवासियों और आने जाने वाले लोगों को न केवल समस्या का लगातार सामना करना पड़ता है, बल्कि साथ ही वहां अनेक बार दुर्घटनायें हो चुकी हैं, जिनमें कई लोगों की मृत्यु तक हो चुकी है. इन समस्याओं के समाधान के लिए होशंगाबाद रोड स्थित रहवासियों एवं सामजिक कार्यकर्ताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह से मुलाकात कर विस्तार से जानकारी और सुझाव दिए. मंत्री जयवर्धन सिंह ने सुझावों पर पर अमल करने का आश्वासन दिया है.'' 


होशंगाबाद रोड स्थित रहवासियों एवं सामजिक कार्यकर्ताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह से मुलाकात की. मुलाकात के दौरान नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह ने प्रतिनिधिमंडल के बातों को विस्तार से सुना एवं  उनके सुझावों पर अमल करने का आश्वासन दिया. उन्होंने यह भी कहा कि जल्द ही बीआरटीएस पर बसों की संख्या को बढ़ाया जाएगा. 

प्रतिनिधिमंडल ने नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह को सौंपे गए ज्ञापन में जहाँ उन्हें समस्याओं से अवगत कराया वहीं सुधार हेतु यह सुझाव भी दिए. ज्ञापन में बताया गया होशंगाबाद रोड पर सर्विस रोड, साइकिल ट्रैक, मुख्य सड़क एवं बीआरटीएस है, चूंकि बीआरटीएस पर केवल लो-फ्लोर बसें ही चलती हैं एवं साइकिल ट्रैक पर लगभग नहीं के बराबर साइकिल चलती हैं इसलिए सारा भार मुख्य सड़क पर आ जाता है. मुख्य सड़क पर अत्यधिक भार के कारण लोग सर्विस लेन का प्रयोग करते हैं एवं वहां भी जाम जैसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है. होशंगाबाद रोड पर इतनी चौड़ी सड़क होने के बावजूद भी सड़क की डिजाइन में तकनीकी खामियों की वजह से लगातार जाम की स्थिति बनी रहती है. 

ज्ञापन में बताया गया यह सब बीआरटीएस में केवल लो फ्लोर बस चलने के कारण होता है. हमारा यह मानना है कि दूरगामी दृष्टि से पब्लिक ट्रांसपोर्ट का अधिकाधिक उपयोग बहुत महत्वपूर्ण हैं, इसलिए बीआरटीएस को पूरी तरह हटाने की बजाय इसमें सुधार की आवश्यकता है. 

समस्या के निदान के लिए प्रतिनिधिमंडल ने निम्न सुझाव दिए- 
(1) लो फ्लोर बसों के साथ ही सभी मिनी बसों, स्कूल बसों एवं अन्य भारी वाहनों को भी BRTS पर ही चलाया जाए. 
(2) पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से लोगों को ई वाहनों के प्रयोग के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए। यदि साइकिल ट्रैक पर ई बाइक चलाने की अनुमति भी दी जाती है तो यह पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण कदम होगा. अतः साइकिल ट्रैक पर ई बाइक को भी (प्रातः 9 बजे से रात्रि 9 बजे) चलाया जाए.
(3) कॉलोनियों की सड़क मुख्य मार्ग पर सीधे चौराहे पर मिलने की बजाय सर्विस लेन से स्लाइड कर मिलें। 
(4) बीआरटीएस तक पहुँचने के लिए सर्विस लेन से फुट ओवर ब्रिज बनाये जाएँ एवं सर्विस लेन पर BRTS यात्रियों के लिए साइकिल एवं बाइक पार्किंग की व्यवस्था हो। इसके नहीं बनाये जाने से स्कूल बस से आने वाले बच्चों की दुर्घटना की संभावना बेहद बढ़ जायेगी.
(5) सर्विस लेन के किनारे अनेक व्यावसायिक प्रतिष्ठान अनाधिकृत रूप से खुले हुए हैं। जिनके द्वारा सर्विस लेन पर अनाधिकृत पार्किंग भी की जाती है. अतः सर्विस लेन पर अनधिकृत पार्किंग एवं अतिक्रमण हटाया जाए।
(6) सर्विस लेन पर वाहनों को केवल एक ही दिशा में चलाने की अनुमति दी जाए.

प्रतिनिधिमंडल में YatraWale.in के CEO और बेरोजगार सेना के प्रमुख अक्षय हुँका, संस्कार भारती विद्यापीठ के संचालक शांतनु शर्मा, NH 12 क्रिएटिव वुमन क्लब की अध्यक्ष सुश्री अंशु गुप्ता, नारायण नगर के सचिव अक्षय गार्गव एवं सिविल इंजीनियरिंग के छात्र रवींद्र शामिल थे. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc