पत्रकार तरुण आत्महत्या को लेकर पूर्व बीजेपी नेता अनिल सौमित्र ने संघ पर साधा निशाना, लिखा 'पत्रकार बाद में पहले स्वयंसेवक थे, तब न सही अब तो सुध लो'


भाजपा प्रवक्ता अनिल सौमित्र ने ...

महात्मा गांधी को पाकिस्तान का राष्ट्रपिता बताने वाले बयान के बाद सुर्ख़ियों में आये मध्यप्रदेश बीजेपी के मीडिया सम्पर्क विभाग के संयोजक भाजपा नेता अनिल सौमित्र को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया था. अब उन्होंने कोरोना पीड़ित  पत्रकार तरुण सिसोदिया की आत्महत्या को लेकर संघ पर निशाना साधा है. 


सोशल मीडिया पोस्ट में उन्होंने लिखा है 
''हे संघ!
तरुण सिसोदिया पत्रकार बाद में थे, पहले स्वयंसेवक, कार्यकर्ता और विस्तारक थे। तब न सही, अब तो सुध लो!''

वहीं पोस्ट पर प्रतिक्रिया में श्री  Anil Chawla जी, Use and throw इस मानसिकता वालों से सुध लेने की अपेक्षा करना बेकार है, लिख कर संघ को Use and throw वाली विचारधारा बता रहे हैं. 

अनिल सौमित्र आख़िर हैं कौन? 
बीजेपी से इतर उनकी पहचान मीडिया एक्टिविस्‍ट और सामाजिक कार्यकर्ता के तौर पर भी है. उनका संबंध मुज़फ्फरपुर (बिहार) से है. यही शहर उनकी जन्मस्थली है. मुज़फ्फरपुर के एक गांव में जन्माष्टमी के दिन उनका जन्म हुआ था.


अनिल सौमित्र ने दिल्ली स्थित भारतीय जनसंचार संस्थान से पत्रकारिता की पढ़ाई की है. बाद में वह भोपाल में एक एनजीओ से जुड़ गए. उसके बाद वह रायपुर में एक सरकारी संस्थान में निःशक्तजनों की सेवा करने में जुट गए. अनिल सौमित्र भोपाल में आरएसएस के मुखपत्र 'पांचजन्‍य' के विशेष संवाददाता भी रहे. सौमित्र कई पत्र-पत्रिकाओं में नियमित तौर पर लिखते रहते हैं.

अनिल सौमित्र ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के बारे में आपत्तिजनक बात सोशल मीडिया में पोस्ट की थी. एक पोस्ट का समर्थन करते हुए उन्होंने बापू के लिए लिखा था कि वह पाकिस्तान के राष्ट्रपिता थे. 




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc