डबल इंजन की सरकार में नदी में बह गया 'विकास', सामने आया 'भ्रष्टाचार'


बिहार में किसकी सरकार है? सरकार में बैठे लोगों से यह पूछने पर जवाब मिलता है 'सुशासन की सरकार.' वहीं विपक्ष के नेताओं से जवाब उल्टा मिलता है. कोई कहता है भ्रष्ट सरकार है, कोई कहता है डबल इंजन की सरकार है, कोई कुछ भी कह देता है, लेकिन पिछले तीन दिनों से बिहार के अलग-अलग ज़िलों से जो तस्वीरें वायरल हो रही हैं, जो बता रहीं हैं कि बिहार में सब कुछ अच्छा नहीं है.

एक ओर जहाँ बिहार में कोरोना वायरस का विस्फोट हो चुका है और पिछले तीन दिनों से रोज़ाना हज़ार से ज़्यादा नए मामले आ रहे हैं, अस्पतालों में बेड की कमी हो गई है.

वहीं दूसरी ओर बाढ़ ने भी बिहार में तबाही मचानी शुरू कर दी है. उत्तरी बिहार और कोसी क्षेत्र के इलाक़ों के सैकड़ों गाँवों में बाढ़ का पानी घुस गया है. ऐसे वक़्त में जो तस्वीरें सामने आ रही हैं, वो स्थिति की भयावहता को बयान करती हैं. 209.39 करोड़ की लागत से बने पुल के उद्घाटन के महज़ 29 दिन बाद ही इसका एप्रोच रोड टूट गया है. पुल पर आवागमन बंद है.

रिकॉर्ड्स के मुताबिक़, गंडक नदी के ऊपर गोपालगंज के सत्तरघाट के पास बने इस पुल का उद्घाटन इसी साल 16 जून को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए किया था. इसी पुल के शिलान्यास के समय अप्रैल 2012 में भी मुख्यमंत्री ख़ुद यहाँ आए थे और कहा था कि चार सालों में पुल बनकर तैयार हो जाएगा, लेकिन उद्घाटन आठ साल बाद इसी साल 16 जून 2020 में हुआ.

गोपालगंज, छपरा, सिवान आदि को उत्तर बिहार से जोड़ने वाले इस पुल के एप्रोच रोड के इतनी जल्दी टूट जाने पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सरकार पर भ्रष्टाचारी होने का इल्ज़ाम लगाया है.

मामले में इनका यह कहना है 

बिहार में चारों ओर लूट ही लूट मची है -तेजस्वी यादव

उनका कहना है, "263 करोड़ से आठ साल में बना, लेकिन मात्र 29 दिनों में ही ढह गया पुल. संगठित भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह नीतीश जी इस पर एक शब्द नहीं बोलेंगे और ना ही साइकिल से रेंज रोवर की सवारी कराने वाले भ्रष्टाचारी सहपाठी पथ निर्माण मंत्री को बर्खास्त करेंगे. बिहार में चारों ओर लूट ही लूट मची है."

विपक्ष के आरोपों पर पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव कहते हैं
"राजद झूठा प्रोपेगैंडा फैला रहा है, जबकि पुल को कुछ हुआ भी नहीं. पुल से क़रीब 2 किलोमीटर पहले के एप्रोच रोड को थोड़ा सा नुक़सान पहुँचा है. वो भी तीन से चार दिनों के अंदर दुरुस्त कर लिया जाएगा."

गोपालगंज डीएम अरशद अज़ीज़ मंत्री जी से दो कदम आगे बढ़ कर  कहते हैं  ''पुल को किसी तरह की क्षति नहीं हुई''

"गंडक में पानी का दबाव ज़्यादा हो जाने की वजह से एप्रोच रोड टूटा है. पुल को किसी तरह की क्षति नहीं हुई है. कटाव और अधिक न हो इसके लिए उपाय कर दिए गए हैं."


Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc