सुल्तानपुर में मर गया लोगों की आंख का पानी, अफसरशाही भी होश में तब आई, जब वीडियो हुआ वायरल



मानवता को शर्मसार कर देने वाला ये स्तब्धकारी घटनाक्रम है यूपी के सुल्तानपुर जिले का! पेट की आग बुझाने की जद्दोजहद में एक बुजुर्ग मजदूर ने खेत में ही दम तोड़ दिया. लोग वीडियो बनाते रह गए. हद यहीं पर नहीं होती है, हैरत होती है ‘इंसानियत’ पर ! काफी देर तक उसका शव वहीं पड़ा रहा, लेकिन साथी मजदूर कार्य के घंटे व रोजगार के आंकड़े मजबूत करने के लिए अपने काम में व्यस्त रहे. प्रशासन भी हरकत में तब आया जब मजदूर का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ.


इंसानियत को तार-तार कर देने वाला ये घटनाक्रम है चांदा थाने के धौरहरा गांव का. बुधवार की दोपहर में देवीप्रसाद (65) पुत्र रमई मनरेगा के तहत हो रहे खोदाई-पटाई के काम में अन्य ग्रामीणों के साथ जुटा हुआ था. तभी अचानक सांस लेने में देवी प्रसाद की तकलीफ बढ़ गई. वो कुछ ही देर में गिरकर तड़पने लगा. मौके पर मौजूद लोगों ने उसे इलाज मुहैय्या कराने को दूर उसका वीडियो बनाने में लग गए. कुछ ही देर में देवीप्रसाद की मौत हो गई. प्रधान व सेक्रेटरी ने काम रुकवाने के बजाय चालू रखा. शव वहीं बगल में घंटों पड़ा रहा. आखिरकार खंड विकास अधिकारी को देर शाम खबर की गई. इधर सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हो उठा.हलचल बढ़ी तो अफसर होश में आए लेकिन मौके पर जाने की किसी ने जुर्रत नहीं की.

सीडीओ रमेश मिश्र के आदेश पर पुलिस ने पंचनामा भरा और बगैर पोस्टमार्टम शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया. अब प्रकरण को लेकर बढ़ी हलचल के मध्य एडीएम (प्रशासन) हर्षदेव पांडेय ने मृत मजदूर देवी प्रसाद के परिजनों को शासकीय सहायता उपलब्घ करवाने के निर्देश दिए हैं. डीएम सी इंदुमंती ने मामले को संज्ञान लेते हुए मजदूर की मौत पर दुःख जताया है. एसडीएम लम्भुआ, बीडीओ और डीसी मनरेगा को सख्त निर्देश दिए हैं.जांच के बाद पीड़ितों को मुआवजा दिए जाने की बात की जा रही है. डीएम ने गांव जाकर खुद सीधे संवाद करने का फिलहाल फैसला किया है. वहीं प्रशासन द्वारा शव का पोस्टमार्टम न कराए जाने का फैसला रहस्यपूर्ण प्रतीत हो रहा है. आखिर कैसे और किस बीमारी से मजदूर की मौत हुई , ये रहस्य बनकर रह गया है.
वीडियो देखें - 





Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc