कृषि मंत्री कमल पटेल के प्रस्ताव पर भारत सरकार ने चना, मसूर, सरसों की उपार्जन सीमा समाप्त की



किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल के अनुरोध एवं उपार्जन की अधिकतम सीमा समाप्त करने के लिए भेजे गए प्रस्ताव पर भारत सरकार ने मुहर लगा दी है. भारत सरकार ने मध्यप्रदेश में चना, मसूर, सरसों की प्रति व्यक्ति, प्रतिदिन अधिकतम उपार्जन सीमा को समाप्त कर दिया है.


कृषक कल्याण पहली प्राथमिकता
मंत्री श्री पटेल ने भारत सरकार को 23 मई 2020 को भेजे पत्र में प्रदेश में चना, मसूर , सरसों के प्रति दिन, प्रति व्यक्ति अधिकतम उपार्जन सीमा जो कि 25 क्विंटल थी. कोविड-19 संक्रमण काल में इस सीमा को बढ़ाकर 40 क्विंटल प्रति दिन, प्रति किसान कर दिया गया था. कृषि मंत्री श्री पटेल ने इस सीमा को भी किसानों के हित में समाप्त करने का अनुरोध किया था.

भारत सरकार ने कृषि मंत्री के अनुरोध को स्वीकार करते हुए मध्यप्रदेश में चना, मसूर, सरसों के प्रतिदिन, प्रति व्यक्ति 40 क्विंटल की उपार्जन सीमा को समाप्त कर दिया है. अब किसान चना मसूर सरसों की जितनी उपज है, उसे लेकर मंडी में आ सकता है और विक्रय कर सकता है. भारत सरकार के कृषि मंत्रालय के डायरेक्टर सतीश भूषण ने उक्त संबंध में आज आदेश जारी कर दिया है.



Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc