राजापुर में SDM की दूरदर्शिता से संक्रमित होने से बचा गांव, वहीं दुसरे SDM ने खुद को बचाने कालापानी पटवारी पर की कार्यवाही


- दिल्ली से अपने गांव आये पति-पत्नि के सेम्पल निकले पॉजिटिव
- दिल्ली से लौटते ही सख़्ती से कराया होम क्वारंटाइन 
- ग्रामीणों को बचाने घर के बाहर चस्पा की चेतावनी 
- काश कालापानी में होती सख़्ती पर दोषी अधिकारियों पर कलेक्टर मेहरबान 

बिजावर अनुभाग के ग्राम राजपुर में तैनात फ्रंट लाइन योद्धा
छतरपुर जिले के बिजावर अनुभाग के ग्राम राजापुर में पति-पत्नि की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. वहीँ कालापानी में एक और पॉजिटिव पाया गया है, जिस कारण कालापानी में संक्रमित संख्या 8 पहुंच चुकी है. छतरपुर जिले में कुल 20 पॉजिटिव में से दो स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके है. राजापुर में अनुभाग के एसडीएम की दूरदर्शिता से वायरस का संक्रमण फैलने से रुक गया. 


छतरपुर / धीरज चतुर्वेदी 


आज शनिवार को तीन लोगो के सेम्पल पॉजिटिव आये है. गुलगंज से महज तीन किमी दूर बिजावर मार्ग पर स्थित ग्राम राजापुर में अहिरवार समाज के पति-पत्नि के सेम्पल पॉजिटिव निकले है. अनुभाग के एसडीएम डीपी द्विवेदी ने बताया कि दोनों पति पत्नी 25 मई को दिल्ली से अपने गांव आये थे. प्राथमिक लक्षणों को देख इन दोनों को होम क्वारंटाइन करा दिया गया था. ग्रामीणों को सचेत करने के लिये चेतावनी भी घर के बाहर चस्पा करा दी थी. पति-पत्नि को बुखार भी था और खांसी से ग्रसित थे. 26 मई को इनके सेम्पल जाँच हेतु भेजे गए थे, जो आज पॉजिटिव आये. 


कोरोना रोकथाम में सामूहिक जिम्मेदारी, पर खुद को बचाने 

SDM ने कालापानी के पटवारी पर की कार्यवाही

अधिकारी अगर संवेदनशील हो तो परिणाम भी सार्थक आते है. जैसे ग्राम राजापुर में एसडीएम की सूझबूझ ओर दूरदर्शिता ने पूरे गांव को संक्रमित होने से बचा लिया. वहीं यह कमी छतरपुर जिला मुख्यालय से सटे छतरपुर अनुभाग के ग्राम कालापानी में देखने को मिली है. जहाँ के हालात अब गंभीर होते जा रहे हैं. सात पहले से ही संक्रमित पाए गए थे, आज आई सेम्पल रिपोर्ट में कालापानी का एक और पॉजिटिव निकला है. 

कलेक्टर ने इस ग्राम में लापरवाही बरतने पर जिम्मेदार अधिकारियो को नोटिस जारी किये थे. चर्चा है कि यह नोटिस औपचारिक थे, जिसका उद्देश्य लापरवाह अधिकारियो पर कार्यवाही करना नहीं, बल्कि खुद को सुरक्षित करना था. ताकि भविष्य में अगर उच्च स्तर से जवाब तलब होता है तो यह नोटिस कवच का काम कर सके. इन चर्चाओं को बल मिलता है कि नोटिस थमाने के बाद भी सीधे तौर पर दोषी अधिकारी दंड के बजाय कलेक्टर के कृपापात्र बने हैं. खुद को बचाने के लिये एसडीएम ने कालापानी के पटवारी पर कार्यवाही कर दी है, जबकि कोरोना वायरस की रोकथाम में सामूहिक जिम्मेदारी है.



Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc