VIDEO इंदौर में छः साल के बच्चे ने बोला - "हम मोदी को मारेंगे"




इंदौर में छः साल  के बच्चे ने बोला - "हम मोदी को मारेंगे"..छः साल के बच्चे के अंदर किसने भरा ये जहर ..हैरत की बात है कि परिवार के लोग इस घटना के बाद भी मुस्कुरा रहे थे, और उन्होने बच्चे को नहीं समझाया... ये बड़े दुख की बात है"..!


भाजपा आईटी सेल के चीफ अमित मालवीय ने अपने ट्वीटर पर इंदौर के
भाजपा आईटी सेल के चीफ
अमित मालवीय
एक अस्‍पताल का वीडियो शेयर किया हैं. ये वीडियो मध्‍यप्रदेश के इंदौर के मेडिकल कालेज के अस्‍पताल का हैं. जिसमें अस्‍पताल में कोरोना से इलाज के बाद जंग जीतकर डिसचार्ज होकर घर जाते लोगों के हैं. अस्‍पताल के बाहर खड़े इस बड़े से ग्रुप में एक विशेष समुदाय के लोग नजर आ रहे हैं. इस वीडियों में एक छह वर्ष का बच्‍चा प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के लिए कहता हुआ सुनाई दे रहा हैं कि "हम मोदी को मारेंगे".



“हम मोदी को मारेंगे"
ये बोल 6 साल के उस बच्चे के हैं जो अपने परिवार और रिश्तेदारों के साथ 13 मई को कोरोना से जंग जीतकर इंदौर के इंडेक्स मेडिकल कॉलेज के अस्पताल से घर वापस जा रहा था। सवाल यह है कि इस छोटे से मासूम बच्चे के जहन में आखिर ये जहर भरा किसने?


अमित मालवीय ने वीडियो शेयर कर पूछा, मासूम के ज़हन में ज़हर किसने भरा?
इसी वीडियो को शेयर करते हुए अमित मालवी ने ट्वीट किया है जिसका टाइटल वो ही दिया हैं जो ये बच्‍चा बोल रहा हैं और मालवीय ने लिखा कि ये बोल 6 साल के उस बच्चे के हैं जो अपने परिवार और रिश्तेदारों के साथ 13 मई को कोरोना से जंग जीतकर इंदौर के इंडेक्स मेडिकल कॉलेज के अस्पताल से घर वापस जा रहा था. सवाल यह है कि इस छोटे से मासूम बच्चे के जहन में आखिर ये जहर भरा किसने? ये वीडियो शेयर करते हुए अमित मालवीय ने सवाल उठाया है कि आखिर इस बच्‍चें के दिमाम में ये ऐसी बातें कौन डाल रहा है. देखें वीडियो - 



आज इंदौर में मोदी जी के एक हाथ किताब और एक हाथ कंप्यूटर वाले छः साल के बच्चे ने बोला - "हम मोदी को मारेंगे"..छः साल के बच्चे के अंदर किसने भरा ये जहर ..हैरत की बात है कि परिवार के लोग इस घटना के बाद भी मुस्कुरा रहे थे, और उन्होने बच्चे को नहीं समझाया...ये बड़े दुख की बात है"..!

1,570 people are talking about this


बता दें मार्च के अंतिम दिनों में तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों सैकड़ों की संख्‍या में कोरोना मरीजों के मामले सामने आए थे. इन सभी लोगों का निजामुद्दीन के मरकज से कनेक्शन था जो मार्च के मध्‍य में दिल्ली के में आयोजित हुआ था. निजामुद्दीन मरकज का कोरोना का मामला सामने आने के बाद कई लोगों द्वारा सोशल मीडिया पर कोरोना जिहाद और मरकज साजिश जैसे भड़काऊ पोस्‍ट किए गए थे. तभी भाजपा की आईटी सेल के चीफ अमित मालवीन ने 1 अप्रैल को ट्वीट किया था कि दिल्ली का अंधेरा नाजुक मोड़ पर हैं! पिछले तीन महीनों में एक इस्‍लामिक विद्रोह देखने को मिला है, जिसमें सबसे पहले शाहीन बाग से लेकर जामिया, जाफराबाद से सीलमपुर तक का विरोध-सीएए का विरोध है और अब मरकज में कट्टरपंथी तब्लीगी जमात का अवैध जमावाड़ा. इसे ठीक करने की जरुरत हैं. जिस पर विपक्ष ने उनके इस बयान की आलोचना भी की थी. इतना ही नहीं भारतीय जनता पार्टी के अध्‍यक्ष जे पी नड्डा ने पार्टी के नेताओं के साथ बैठक कर अनुरोध किया है कि वो लोग कोई ऐसा बयान न दें जिससे कोरोना वायरस से उपजे हालात को साम्प्रदायिक रंग दिया जा सके या फिर समाज में विभाजन या मत विभिन्‍नता का कारण बन सके.



Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc