फिर एक संत की हत्या, साक्ष्य मिटाने आधा किमी दूर गड़ा दिया



फिर एक संत की ह्त्या कर दी गई है. सिहोरा के जंगल के बीच में बने मन्दिर में रह रहे 85 वर्षीय संत की हत्या करके उनके शव को मन्दिर से करीब 5 सौ मीटर की दूरी पर गड़ा दिया, जबकि मन्दिर से ठीक पहले जूते झाडियों में पड़े हैं. उनकी छड़ी (घुटानी) मन्दिर के सामने झाडियों में पड़ी मिली है. शव को ठिकाने लगाने के लिए ले जाने वाले रास्ते में मास्क पड़ा हुआ था, जबकि मन्दिर से राशन और मोबाइल ग़ायब मिला है. परिजनों ने बताया कि 30 अप्रेल से मोबाइल बंद बता रहा था, जिसके बाद संत जी के भाइयों ने खितौला थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी.
मौके पर पहुंची पुलिस और एफएसएल की टीम जांच हेतु जुटा रही साक्ष्य  

सिहोरा/ 
खितौला थाना के अंतर्गत सरदा के जंगल में घुघरा मेन रोड से करीब 3 किमी दूर स्थित चोपड़ा धाम मन्दिर के संत भैया लाल महाराज करीब 85 वर्षीय की हत्या कर जंगल मे करीब आधा किमी दूर शव को गड्ढा करके मिट्टी में गड़ाया दिया था. जानकारी के बाद पहुंची पुलिस और एफएसएल की टीम ने साक्ष्य जुटा कर जांच शुरू की, जबकि घटना स्थल के रास्ते पर कुछ जगहों पर खून गिरने के धब्बे मिले हैं, लेकिन काफी दिन हो जाने के बाद अभी स्पष्ट नही है. जिस जगह पर संत के शव को गड़ाया गया है वहीं पास में ही खून के निशान लगे पत्ते और झाड़ियां मिली हैं जिस जगह गड़ाया गया वहां से बीस फीट की दूरी पर पीले रंग का रस्सा भी पड़ा मिला. यह भी अंदाजा लगाया जा रहा है कि संत की हत्या करने के बाद साक्ष्य खत्म करने के लिए हत्या करके शव को दफनाया गया है. मौके सिहोरा एसडीओपी भावना मरावी, खितौला टीआई, तहसीलदार समेत सभी आला अधिकारी मौके पर पहुंचे. 
साक्ष्य मिटाने शव आधा किमी दूर ले जाकर यहाँ गड़ा दिया


ये समान बिखरा मिला
मन्दिर से ठीक पहले जूते झाडियों में पड़े हैं साथ ही उनकी छड़ी (घुटानी) मन्दिर के सामने झाडियों में पड़ी है और मास्क भी शव को ठिकाने लगाने के लिए ले जाने वाले रास्ते में मास्क पड़ा हुआ था, जबकि मन्दिर से राशन और मोबाइल ग़ायब मिला. मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना स्थल की जांच कर एफएसएल की टीम ने भी सभी सूक्ष्म बिंदुओं पर जांच की. वहीं परिजनों ने बताया कि 30 अप्रेल से मोबाइल भी बंद बता रहा था . 



Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc