तमाशा मिट्टी का




                   है आना जाना मिट्टी का,
              करना न बहाना मिट्टी का,
              मिट्टी में मिट्टी मिल जाये,
              है यही तमाशा मिट्टी का।

              जब जेठ दुपहरी हो जाये,
              तब देख पसीना मिट्टी का,
              हरियाली जब आई बसै,
              फिर देख तमाशा मिट्टी का।

              नयनन की भूल भुलैया का,
              अधरों के रास रसैया का,
              नयन अधर जब साथ न दे,
              तब देख तमाशा मिट्टी का।

              मिट्टी है मिट्टी रहने दो,
              मिट्टी संग हमको बहने दो,
              जब मिट्टी संग न मिट्टी हो ,
              तब देख तमाशा मिट्टी का।




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc