बे-सहारा तथा अनाथ बच्चे बुलंदियां छुएं, के लिए कलेक्टर निधि निवेदिता ने बढ़ाया हाथ


''जनसुनवाई के दौरान एक घटना क्रम ने कलेक्टर सुश्री निधि निवेदिता को न केवल भावुक कर दिया, बल्कि और बच्चों के लिए वे कुछ करें के लिए प्रेरित भी. नन्हे-मुन्हे बच्चों ने आवेदन देकर बताया कि हमारे पिता जी का स्वर्गवास हो गया है, माँ बीमार है और रहने के लिये आवास नहीं है, तो उन्होंने उन तीनों मासूम बच्चों की उचित व्यवस्था तो की ही, माँ का इलाज भी शुरू कराया, साथ ही स्कूलों का निरीक्षण और अन्य बच्चों के प्रति भी सजग हो गईं. वे आवासीय छात्रावास भी पहुँची, जहाँ उन्होंने बच्चों से बात कर एक माँ होने का दायित्व भी निभाया. उन्होंने सभी बच्चों से संवाद कर कहानी, पहाड़े सुने. उन्होंने कहा कि यह बे-सहारा तथा अनाथ बच्चे जीवन की कसौटी पर खरे तब उतरेंगे, जब इन्हें उचित मार्गदर्शन मिलेगा.'' 
- बलभद्र मिश्रा    

राजगढ़ / बच्चों का भविष्य बनाना शिक्षक द्वारा संभव है. एक अच्छा शिक्षक बच्चों को शिक्षा देकर जो सिखाता है, बच्चे वही सीखते हैं, जो उन्हे अनुशासन के साथ ही भविष्य की नींव को सार्थकता कर सच करती है. उन्होंने कहा कि बचपन में सीखी अच्छी आदतें हमें जीवन भर याद रहती है. आज बच्चे उत्कृष्ट प्रदर्शन कर माता-पिता को जहाँ गौरवान्वित कर रहे हैं, वहीं कलेक्टर राजगढ़ द्वारा ऐसे एकांकी, अनाथ तथा बे-सहारा बच्चों के सर्वांगीण भविष्य को उज्जवल और सार्थक बनाने का प्रयास कर रही हैं.

जिला मुख्यालय पर आयोजित जनसुनवाई के दौरान ग्राम देहरा तहसील खिलचीपुर से आये 03 नन्हे-मुन्हे बच्चों ने आवेदन देकर बताया कि हमारे पिता जी का स्वर्गवास हो गया है, माँ बीमार है और रहने के लिये आवास नहीं है. तीनों मासूम बच्चों मास्टर रामदयाल 09 वर्ष राकेश 07 वर्ष तथा बबलू 05 वर्ष ने जनसुनवाई के दौरान कलेक्टर के पास आकर गुहार लगाई कि पिताजी स्व. श्री मोतीलाल का देहांत हो गया है, तथा माँ श्रीमती गुलाब बाई बहुत बीमार है.


इस पर कलेक्टर ने तीनों बच्चों को पहले बालक आवासीय छात्रावास सर्व शिक्षा अभियान राजगढ़ में पहुँचाया जहाँ उनकी देख-रेख की जिम्मेदारी महिला सशक्तिकरण अधिकारी श्याम बाबू खरे को दी. उन्होंने कहा कि बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिये जिला प्रशासन हर संभव प्रयास करेगा. इसके साथ ही बच्चों की माता श्रीमती गुलाबबाई को जिला मुख्यालय पर लाकर जिला अस्पताल में उचित इलाज भी कराया जायेगा.

कलेक्टर ने कहा कि यह बे-सहारा तथा अनाथ बच्चे जीवन की कसौटी पर खरे तब उतरेंगे, जब इन बच्चों को उचित मार्गदर्शन मिलेगा. सफलता तभी प्राप्त होती है, जब उठने वाले हाथ आपकी और हो, जीवन में संघर्ष और परिश्रम हर इंसान को एक ऊँचाई जरूर देता है. उन्होंने कहा कि यह सब बच्चे जीवन की उन ऊँचाईयों की बुलंदियों को जरूर छूयेंगे.


कलेक्टर पहुँची बालक आवासीय छात्रावास
राजगढ़ कलेक्टर सुश्री निधि निवेदिता जनसुनवाई के दौरान आये 03 बच्चों को देखने बालक आवासीय छात्रावास पहुँची. जहाँ उन्होंने बच्चों से बात कर एक माँ होने का दायित्व भी निभाया. उन्होंने वहाँ पूर्व से ही रह रहे लगभग 95 बच्चों में उत्कृष्ट क्षमता को देख उनके लिये सभी व्यवस्थाऐं एवं समुचित प्रबंध करने की बात भी कही. उन्होंने बालक आवसीय छात्रावास के प्रभारी श्री चदंर सिंह तोमर से चर्चा कर वहाँ संचालित गतिविधियों के बारे में विस्तार से जाना तथा मूलभूत सुविधाऐं उपलब्ध कराने हेतु प्रस्ताव बनाने के लिये भी कहा. 

इस मौके पर कलेक्टर ने सभी बच्चों से संवाद कर बच्चों से कहानी, पहाड़े सुने और जिलों के नाम और भारत के राष्ट्रपति के नाम पूछे, जिन्हें बच्चों द्वारा सही सही बताया गया. कलेक्टर ने कहा कि इन 95 बच्चों में अलग-अलग प्रतिभा है, जिसका निखार हर स्तर से किया जाकर इनके भविष्य को मजबूत और सशक्त बनाया जायेगा, जिससे आने वाले समय में हर बच्चा अलग-अलग क्षेत्रों में अपना वर्चस्व साबित कर एक अलग मुकाम हासिल करेगा. इस अवसर पर महिला सशक्तिकरण अधिकारी श्याम बाबू खरे, डीपीसी, विक्रम सिंह राठौर तथा प्रभारी शिक्षक चन्दर सिंह तोमर साथ रहे. 

व्हाट्स एप ग्रुप में मैसेज देखकर रक्तदान करने पहुँच गईं
Image result for rajgarh collector nidhi nivedita

उल्लेखनीय है कलेक्टर निधि निवेदिता जहाँ भी अपनी आवश्यकता समझती हैं वहां तत्काल पहुँच जाती हैं. एक बार व्हाट्स एप ग्रुप में मैसेज देखकर रक्तदान करने पहुँच गई थी. तब बीमार युवती कविता दांगी को खून की काफी कमी थी. हिमोग्लोबिन 5.5 तक गिर गया था. ब्लड बैंक में भी खून नहीं मिल रहा था. तब रक्तदान को लेकर अभियान चलाने वाले युवक रायसिंह ने इस तरह की सूचना डाली तो सूचना देख कर खुद पहुँच गई रक्तदान करने बाद में इस सम्बन्ध में अभियान भी चलाया. 
Image result for rajgarh collector nidhi nivedita

तेजतर्रार भी कम नहीं  
यस, कहीं कुछ गलत हो तो तेजतर्रार भी कम नहीं हैं. बात जनवरी की है, जब प्रदेश में बीजेपी की सरकार थी. खुजनेर में हुए उपद्रव के बाद जांच की मांग को लेकर भाजपा नेता कलेक्टर निधि निवेदिता को ज्ञापन देने पहुंचे थे. भाजपा नेताओं में शामिल पूर्व राज्यमंत्री बद्रीलाल यादव को गलत बयानी करने पर फटकार भी लगा चुकी हैं. 

असल में जब कलेक्टर निधि निवेदिता ने कहा कि हम इस मामले की जांच 90 दिनों में पूर्ण कर लेंगे, जिसके बाद पूर्व राज्यमंत्री बद्रीलाल यादव ने कहा कि 90 दिनों में तो सरकार बदल जाएगी. इस पर कलेक्टर ने जमकर वरिष्ठ भाजपा नेता को फटकार लगा दी. उन्होंने कहा कि यदि आप इस तरह की बातें करेंगे तो प्रशासन आपकी कोई मदद नहीं कर पाएगा. 

उल्लेखनीय यह भी है कि आज सच में सरकार बदल गई, जैसा कि पूर्व राज्यमंत्री बद्रीलाल यादव ने कहा था. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc