2 दिन बाद भी नहीं चल सका AN-32 का पता, कांग्रेस ने मोदी सरकार को घेरा, कहा 'अच्छे विमानों के बाबजूद खतरनाक इलाके में AN-32 को क्यों उड़ाया गया?'



कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने लापता एएन-32 विमान को लेकर मोदी सरकार और रक्षा मंत्रालय हमला बोला है. उन्होंने मोदी सरकार से पूछा कि जब भारतीय वायुसेना के पास अच्छे विमान हैं, तो इतने खतरनाक इलाके में एएन-32 को ही क्यों उड़ाया गया? उन्होंने ट्विट कर लिखा है कि मोदी सरकार एएन-32 विमानों को बदलने के लिए रक्षा मंत्रालय को पर्याप्त बजट क्यों नहीं आवंटित कर रही है?



भारतीय वायुसेना के लापता विमान एएन-32 का अब तक कोई सुराग नहीं मिला है, जिसको लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार और रक्षा मंत्रालय पर करारा हमला बोला है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एएन-32 विमान को लेकर मोदी सरकार और रक्षा मंत्रालय पर तीन सवाल दागे हैं. उन्होंने पूछा कि जब भारतीय वायुसेना के पास अच्छे विमान हैं, तो इतने खतरनाक इलाके में एएन-32 को ही क्यों उड़ाया गया? मोदी सरकार एएन-32 विमानों को बदलने के लिए रक्षा मंत्रालय को पर्याप्त बजट क्यों नहीं आवंटित कर रही है?

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि इसी तरह अंडमान और निकोबार द्वीप समूह जाने के दौरान एक एएन-32 विमान लापता हो गया था, जिसका आज तक कोई सुराग नहीं मिला. इसके बावजूद रक्षा मंत्रालय ने कोई ठोस कदम क्यों नहीं उठाया?

कांग्रेस  प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय वायुसेना के लापता एएन-32 विमान में एसओएस सिग्नल यूनिट 14 साल पुरानी लगी थी. सुरजेवाला ने पूछा कि जब साल 2009 में भारत और यूक्रेन के बीच एएन-32 विमानों के अपग्रेडेशन के लिए करार हो चका है, तो इनको अब तक अपग्रेड क्यों नहीं किया गया?



55 घंटे से ज्यादा का समय गुजर चुका, कोई सुराग नहीं मिला
उन्होंने कहा कि मोदी सरकार और रक्षा मंत्रालय को इन सवालों के जवाब हर हाल में देना चाहिए. कांग्रेस प्रवक्ता सुरजेवाला ने लापता एएन-32 विमान में सवाल भारतीय वायुसेना के कर्मचारियों और चालक दल के सदस्यों की सलामती के लिए दुआएं भी की है. भारतीय वायुसेना के एएन-32 विमान ने असम के जोरहाट से अरुणाचल प्रदेश के लिए उड़ान भरी थी और लापता हो गया था. आज दो दिन करीब 55 घंटे से ज्यादा का समय गुजर चुका है, लेकिन अभी तक इस विमान का कोई सुराग नहीं मिला है.

क्रैश साइट को लेकर आशंका गलत 
एएन-32 विमान एक ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट है, जिसको रूस से लिया गया था. यह विमान कठिन परिस्थितियों में अपनी बेहतरीन उड़ान भरने की क्षमता के लिए जाना जाता रहा है. वायुसेना खोजी अभियान में आर्मी की ग्राउंड फोर्स की भी मदद ले रही है. वायुसेना ने ट्वीट किया है कि कुछ रिपोर्ट्स में क्रैश साइट को लेकर आशंका जताई गई थी, लेकिन अब तक किसी तरह का मलबा नहीं मिला है. बताया गया है कि ग्राउंड सोर्स से आखिरी बार सोमवार दोपहर करीब 1 बजे विमान का संपर्क हुआ था. विमान में 8 क्रू मेंबर समेत 13 लोग सवार थे. विमान अरुणाचल प्रदेश के मेचुका एयर फील्ड के ऊपर से लापता हुआ है. यह क्षेत्र चीन सीमा के काफी करीब है. 

परिजन कर रहे चिंता 
लापता एएन-32 विमान को पायलट आशीष तंवर उड़ा रहे थे. हरियाणा के पलवल निवासी आशीष की पत्नी संध्या तंवर और बहन भी भारतीय वायुसेना में तैनात हैं. जब आशीष तंवर ने विमान को लेकर असम के जोरहाट से उड़ान भरी, उस समय उनकी पत्नी संध्या तंवर वहां एयर ट्रैफिक कंट्रोल में ड्यूटी पर थीं. आशीष तंवर अपनी पत्नी संध्या तंवर के साथ 18 मई को ही छुट्टी बिताकर ड्यूटी ज्वाइन की थी. परिजन अब चिंता करने लगे हैं. 

(इनपुट- तनसीम हैदर)




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc