भाजपा स्थापना दिवस पर शत्रुध्न हुए कांग्रेस के, पटना साहिब से भाजपा के रविशंकर प्रसाद को देंगे टक्कर


भाजपा को 'वन मैन शो' और 'टू मैन आर्मी' बताया शत्रुघ्न ने 

आखिर भाजपा छोड़ चुके मशहूर अभिनेता शत्रुध्न सिन्हा ने आज भाजपा के स्थापना दिवस पर कांग्रेस का हाथ थाम ही लिया. आज दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी उन्हें कांग्रेस की सदस्यता दिलाई. इसके साथ ही कांग्रेस ने घोषणा की है कि पार्टी के टिकट से शत्रुघ्न सिन्हा पटना साहिब संसदीय सीट से इस बार पार्टी के उम्मीदवार होंगे और भाजपा के उम्मीदवार रविशंकर प्रसाद को टक्कर देंगे. इसी के साथ शत्रुघ्न सिन्हा ने बीजेपी पर जम कर हमला बोला. 

कांग्रेस में शामिल होने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल हुए. इस दौरान उनके साथ कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला, बिहार कांग्रेस के प्रभारी शक्ति सिंह गोहित और केसी वेणुगोपाल मौजूद रहे. शत्रुघ्न सिन्हा के कांग्रेस में शामिल होने पर रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि शत्रुघ्न सिन्हा जी का आध्यात्मिक और वैचारिक रूप से गांघी, नेहरू और सरदार पटेल से लगाव रहा है.

कांग्रेस का हाथ थामने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा ने भारतीय जनता पार्टी को 39वीं स्थापना दिवस की बधाई दी. उन्होंने कहा कि आज के दिन पार्टी छोड़ना मेरे लिए दु:खद है. भाजपा पर हमला बोलते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि मैंने लोकशाही को तानाशाही में परिवर्तित होते देखा है. वरिष्ठ लोगों को मार्गदर्शक मंडल में डाल दिया गया, और मार्गदर्शक मंडल की आज तक एक बैठक तक नहीं हुई. यशवंत सिन्हा को इतना मजबूर किया गया कि उनको पार्टी छोड़नी पड़ी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर हमला बोलते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने भाजपा को 'वन मैन शो' और 'टू मैन आर्मी' करार दिया. उन्होंने कहा कि पहले भाजपा में विरोधियों को दुश्मन नहीं समझा जाता था, लेकिन अब इस पार्टी में विरोधियों को दुश्मन के तौर पर देखा जाता है.

इस दौरान शत्रुघ्न सिन्हा ने नोटबंदी और जीएसटी को लेकर भी भाजपा पर सवाल दागा. सिन्हा ने कहा कि अचानक से नोटबंदी का फैसला लिया गया, जिससे लोगों को काफी परेशानी हुई. लाइन में लगने की वजह से कई लोगों की मौत भी हो गई. उन्होंने जीएसटी को विश्व का सबसे बड़ा घोटाला करार दिया.

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि भाजपा कहती है की वो दुनियां की सबसे बड़ी पार्टी है, लेकिन किसी को पता नहीं कब और कैसे इतने कार्यकर्ता बन गए. कभी पार्टी कहती है कि 7 करोड़ कार्यकर्ता हैं, तो कभी कहती है कि 11 करोड़ कार्यकर्ता हैं. उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने हजारों करोड़ रुपये प्रचार में खर्च किए, लेकिन देश के विकास के लिए कुछ नहीं किया.  

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc