सावधान! डिजिटल ब्लैकहोल है इंटरनेट, सोचिये यदि एक दिन आपका फोन मृत्यु को प्राप्त हो जाये



''इसे सहजता से यूँ समझिये कि किसी भी कारण से अगर एक दिन आपका पांच साल पुराना फोन मृत्यु को प्राप्त हो जाता है. साथ ही आपकी तमाम स्मार्टनेस के बावजूद आपका डिजिटल डाटा पुनः हासिल नहीं होता तो क्या होता है?'' 



लोकमित्र गौतम 

म लोग धीरे धीरे इस स्थिति के लिए कंडीशंड हो गए हैं. दो चार दिन या हफ्ते दो हफ्ते की तड़पन के बाद हम फिर शून्य से पर्शनल डाटा जुटाना शुरू कर देते हैं. दो चार महीनों के बाद जुटा भी लेते हैं. लेकिन इस बीच हमें इस डाटा के गायब होने से क्या मानसिक और आर्थिक नुकसान हुआ, इसका हमारे पास कोई हिसाब नहीं होता. रखने का कोई फायदा भी नहीं है.



लेकिन सोचिये कल को हमारे और आपके स्मार्ट फोन की ही तरह जीमेल वेबसाईट का ढांचा एक झटके में उड़ जाए तो? यह महज दुह्स्वप्न है ऐसा मत सोचिये आखिर गूगल प्लस एक झटके में बंद हो गयी न? ऐसा इंसान की बिना किसी गलती कुदरत की किसी अनहोनी घटना से भी हो सकता है.सैटेलाइटों में कोई टक्कर हो जाए? ब्रह्मांडीय बिजली का कोई प्रकोप आ जाए? बारहों ऐसी आशंका को जन्म देने वाली चीजें हैं? तब क्या होगा? 

अभी कहीं पढ़ रहा था कि युगोस्लाविया में जो पिछले तीन दशकों में जो उथल पुथल हुआ उसका कोई 95% से ज्यादा ऐतिहासिक साहित्य गायब है क्योंकि यह जिन कुछ वेबसाइटों में मौजूद था वो ही नहीं रहीं.इसलिए 100% डिजिटल होना अक्लमंदी नहीं है.

गूगल प्लस बन्द हो गया है?    


अक्टूबर 2018 में ही 90% उपभोक्ता संस्करण, लेकिन कहा जा रहा है कि बंद होने के बाद इसकी घोषणा की गयी. शायद रिकवरिंग असमर्थता के बाद गूगल ने कहा Is Google+ going away?
Google is going to shut down the consumer version of Google+ over the next 10 months, the company writes in a blog post today.. Google says Google+ currently has 'low usage and engagement' and that 90 percent of Google+ user sessions last less than five seconds... एक बहस है कि ये साख बचाने वाला ब्यान था... सच मालूम नहीं.. 





Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc