यशवंत सिन्हा ने AFSPA को लेकर बीजेपी पर बोला हमला, कहा कांग्रेस ने तो अभी हटाने की बात की है, आपने तो इसे हटा भी दिया


बीजेपी की पूर्व सरकार में केंद्रीय मंत्री रह चुके यशवंत सिन्हा ने AFSPA (अफस्पा) को लेकर बीजेपी पर हमला बोला है. श्री सिन्हा ने बुधवार को एक ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में तो अभी अफस्पा को हटाने की बात ही की है. लेकिन आपने तो इसे अरुणाचल प्रदेश में हटा भी दिया. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि भारत सरकार ने अरुणाचल प्रदेश के चार पुलिस स्टेशन से अफस्पा को हटा दिया है. इन पुलिस स्टेशन पर यह कानून बीते 32 साल से लागू था. बीजेपी अगर अफस्पा हटाए तो यह देशभक्ति है, लेकिन कोई और अगर यह करने की बात भी करे तो वह सशस्त्र बलों के खिलाफ और देशद्रोही होता है. आपका झूठ की दुनिया में स्वागत है.

Yashwant Sinha
@YashwantSinha
 Govt of India has withdrawn Afspa from four police stations in Arunachal Pradesh a few days ago after 32 years. But it is patriotic if BJP does it. If others even think or talk about it they are anti armed forces and anti national. Welcome to the world of lies.

यह कोई पहली बार नहीं है जब यशवंत सिन्हा ने केंद्र सरकार पर हमला बोला हो. यशवंत सिन्हा ने इससे पहले ममता बनर्जी द्वारा बुलाई गई रैली में पीएम मोदी और उनकी नीतियों पर सवाल उठाए थे. उन्होंने कहा था कि वे (सत्ताधारी दल) कहते हैं कि हम मोदी को हटाने के लिए एक साथ आए हैं. मगर मैं यहां बता दूं कि हम मोदी को हटाने के लिए नहीं हैं. सिन्हा ने कहा था कि यह प्रश्न एक व्यक्ति का नहीं है. यह एक सोच और विचारधारा का सवाल है. हम एक सोच और उस विचारधारा के विरोध में यहां एकट्ठा हुए हैं. पिछले 56 महीने में जो घाटा हुआ है, वह प्रजातंत्र को हुआ है. 

बीजेपी की पूर्व सरकार में केंद्रीय मंत्री रह चुके यशवंत सिन्हा ने कहा था कि देश के किसी भी संस्थान को बर्बाद करने में बीजेपी कोई कसर नहीं छोड़ी है. हम लोकशाही को बचाने के लिए एकत्रित हुए हैं. हमारे लिए मोदी मुद्दा नहीं, मुद्दे मुद्दा हैं. वो चाहते हैं हम मोदी को मुद्दा बनाएं, हम मुद्दे को मुद्दा बनाएंगे.

वहीं, इससे पहले यशवंत सिन्हा ने राज्यों में बीजेपी की हार पर भी तंज कसा था. यशवंत सिन्हा ने लिखा था कि इसमें कोई शक नहीं कि पांच राज्यों में बीजेपी के खिलाफ परिणाम आए, खास तौर पर तीन हिन्दी पट्टी के राज्यों में. उन राज्यों, राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में यह स्थिति बनी जहां बीजेपी का मजबूत आधार रहा है और जहां कुशाभाऊ ठाकरे जैसे नेताओं ने वर्षों मेहनत करके पार्टी के लिए जमीन तैयार की. सन 2013 में प्राप्त सीटों की संख्या को लेकर देखें तो मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में बीजेपी को बहुत नुकसान हुआ. यह गूंजते रहने वाली हार है. 
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc