धमाकों से दहला श्रीलंका, चर्च और होटल के पास 8 ब्लास्ट में 200 से ज्यादा की मौत


श्रीलंका में अभी तक के सबसे भयावह हमला में तीन गिरजाघरों और तीन होटलों में एक के बाद एक कर हुए विस्फोटों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 207 हो गई है और 400 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. मृतकों में करीब नौ विदेशी शामिल हैं. 

पुलिस प्रवक्ता रूवन गुनासेखरा ने बताया कि ये विस्फोट स्थानीय समयानुसार पौने नौ बजे ईस्टर प्रार्थना सभा के दौरान कोलंबो के सेंट एंथनी चर्च, पश्चिमी तटीय शहर नेगेम्बो के सेंट सेबेस्टियन चर्च और बट्टिकलोवा के एक चर्च में हुए. वहीं अन्य तीन विस्फोट पांच सितारा होटलों - शंगरीला, द सिनामोन ग्रांड और द किंग्सबरी में हुए. 

होटल में हुए विस्फोट में घायल विदेशी और स्थानीय लोगों को कोलंबो जनरल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है. अस्पताल से जुड़े सूत्रों ने बताया कि कोलंबो में 45, नेगेम्बो में 90 और बट्टिकलोवा में 27 लोगों की मौत हो गई. वहीं 450 से अधिक लोग धमाकों में घायल हुए हैं. उन्होंने बताया कि कोलंबो नेशनल हॉस्पिटल में मौजूद 45 शवों में से नौ की पहचान विदेशी नागरिकों के तौर पर हुई है. इनमे कुछ अमेरिकी और ब्रिटिश हैं. 

कोलंबो नेशनल हॉस्पिटल के प्रवक्ता डॉक्टर समिंदि समराकून ने बताया कि 300 से ज्यादा घायल लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. गुनासेखरा ने बताया कि कोलंबो के दक्षिणी उपनगर में कोलंबो जू (चिड़ियाघर) के निकट हुए एक विस्फोट में दो लोगों की मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि पुलिस की एक टीम ओरुगोदावट्टा क्षेत्र के एक घर में जब जांच के लिए गई तो वहां मौजूद एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को उड़ा लिया. विस्फोट में तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो गई. आज रविवार को यहां आठ विस्फोट हो चुके हैं. 
आठवें विस्फोट के तुरंत बाद सरकार ने तत्काल प्रभाव से कर्फ्यू लगा दिया. हमले की जिम्मेदारी अभी तक किसी समूह ने नहीं ली है. श्रीलंका में पूर्व में लिट्टे (एलटीटीई) ने कई हमले किए हैं.
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc