अब बात 1 करोड़ की, सांसद का चैलेंज कहा '15 लाख का प्रमाण दो और 1 करोड़ लो'




''2014 लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री मोदी के हर व्यक्ति के खाते में 15 लाख डाले जायेंगे का वादा किया गया था या नहीं, को लेकर अब 2019 के चुनाव में बातें खूब जोर पकड़ रही हैं. मीडिया से बातचीत में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने यह कह कर कि 15 लाख का वादा एक जुमला था और चुनाव जीतने के लिए जुमले फेंकने पड़ते हैं, से हर व्यक्ति के खाते में 15 लाख का वादा किया गया था, यह बात विपक्ष उठा रहा है, हालांकि प्रधानमंत्री मोदी इस तरह के किसी वादे से सहमत नहीं है. वहीं अब राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम ने 15 लाख का प्रमाण देने पर 1 करोड़ देने की घोषणा कर दी है.''


पार्टी नेताओं द्वारा बताया जा रहा है असल में मोदी जी ने यह कहा था कि विदेशों में इतना काला धन है कि यदि वह वापस आ जाए तो के हर व्यक्ति के खाते में 15-15 लाख रुपये डाले जा सकते हैं. लेकिन अब जब एक बार फिर लोक सभा चुनाव होने जा रहे हैं तो यह सवाल भी खड़ा हो गया है. पार्टी बता रही है प्रधानमंत्री और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कभी भी किसी मंच से 15 लाख रुपये हर व्यक्ति के खाते में डालने की घोषणा नहीं की.

इस मुद्दे पर छत्तीसगढ़ से राज्यसभा सांसद और बीजेपी नेता रामविचार नेताम ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कभी भी खाते में 15 लाख रुपये डालने का वादा नहीं किया था. 15 लाख रुपये हर व्यक्ति के खाते में डालने की बात पूरी तरह से कपोल कल्पित है. इसी के साथ उन्होंने विपक्ष को चुनौती देते हुए कहा है कि 15 लाख रुपये हर व्यक्ति के खाते में डालने के प्रधानमंत्री और राष्ट्रीय अध्यक्ष के बयान का 24 घंटे के भीतर प्रत्यक्ष प्रमाण प्रस्तुत करने वाले को भारतीय जनता पार्टी 1 करोड़ का इनाम देगी. 

दरअसल पीएम नरेन्द्र मोदी के छतीसगढ़ दौरे के पूर्व, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पीएम मोदी पर निशाना साधा. उन्होंने कहा 'हर व्यक्ति के खाते में 15 लाख रुपये डालने के पीएम मोदी वादे का क्या हुआ? लोगों के खाते में 15 लाख रुपये आए या नहीं?' इसके बाद रायपुर में रामविचार नेताम ने प्रेसवार्ता लेकर इस प्रकार की चुनौती दी.



Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc