राहुल के अलावा ये भी हो सकते हैं प्रधानमन्त्री की कुर्सी के दावेदार






''ज्यादातर मौकों पर हमारे राष्ट्रीय नेता किसी खास परिस्थिति में ही उभरे हैं. सन 1964 में लाल बहादुर शास्त्री और उनके फौरन बाद इंदिरा गांधी, 1984 में राजीव गांधी, 1989 में वीपी सिंह, 1991 में पीवी नरसिंहराव और उनके बाद एचडी देवेगौडा और इंद्र कुमार गुजराल विपरीत परिस्थितियों में ही उभरे थे. यहाँ तक कि मोदी से पहले 10 साल तक सत्ता पर काबिज रहने वाले मनमोहन सिंह के पहली बार प्रधानमंत्री बनने का अनुमान किसे था?''






कुछ समय पहले की बात है जब राहुल गांधी ने कहा कि नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री बनने वाले नहीं हैं, तब उनसे सवाल किया गया कि क्या आप प्रधानमंत्री बनेंगे? कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनी, तब क्या आप प्रधानमंत्री बनेंगे? इस पर उन्होंने कहा, क्यों नहीं?

और इसके बाद से ही राहुल नरेन्द्र मोदी के मुक़ाबले में खड़े नज़र आने की कोशिश करते दिखे, हालांकि ये भी कयास लगते रहे हैं कि 2019 के चुनाव में भी कई तरह के 'किंग' और 'किंग मेकर' साइड-लाइन में बैठे इंतज़ार करेंगे कि शायद अपना मौका भी आए. वैसे भी राहुल गांधी के अलावा राष्ट्रीय राजनीति में कम से कम आधा दर्जन नेता अब भी ऐसे हैं, जिनके भीतर प्रधानमंत्री बनने की मनोकामना छिपी हो सकती है. 

इनमें चंद्रबाबू नायडू, शरद पवार, ममता बनर्जी, मायावती, नवीन पटनायक, के चंद्रशेखर राव और नीतीश कुमार जैसे नेताओं के पास अनुभव है और वह राजनीतिक आधार भी, जो कुर्सी दिलाने में सहायक हो सकता है. अब नीतीश कुमार तो एनडीए के हो गए हैं. उनकी किसी प्रकार से कोई संभावना अब व्यक्त नहीं की जा सकती, लेकिन... 







महत्वपूर्ण होंगे उस समय के हालात    
महत्वपूर्ण हैं वे परिस्थितियाँ, जो नेतृत्व की कुर्सी तक ले जाती हैं. ऐसे हालात किसी भी चुनाव में बन सकते हैं. ज्यादातर मौकों पर हमारे राष्ट्रीय नेता किसी खास परिस्थिति में ही उभरे हैं. सन 1964 में लाल बहादुर शास्त्री और उनके फौरन बाद इंदिरा गांधी, 1984 में राजीव गांधी, 1989 में वीपी सिंह, 1991 में पीवी नरसिंहराव और उनके बाद एचडी देवेगौडा और इंद्र कुमार गुजराल विपरीत परिस्थितियों में ही उभरे थे. यहाँ तक कि मोदी से पहले 10 साल तक सत्ता पर काबिज रहने वाले मनमोहन सिंह के पहली बार प्रधानमंत्री बनने का अनुमान किसे था?





Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc