सीएजी रिपोर्ट, स्मृति ईरानी ने गोद लेने के नाम पर गांव को मिलने वाला पैसा जेब के अंदर किया?




''देश की रखवाली जैसा वचन लेने वाले ट्रेंड '#मैं भी चौकीदार' के तहत अपने नाम के आगे ''चौकीदार'' लगाने वाली केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने सांसद बनने के बाद एक गांव गोद लिया था, दरअसल उन्होंने गांव गोद नहीं लिया, बल्कि गांव को मिलने वाले पैसे अपने जेब के अंदर किए. ''     
सतेंद्रनाथ श्रीवास्तव     



''केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पर गुजरात में विकास कार्य के लिए सांसद निधि के इस्तेमाल में घोटाला करने का मामला सामने आया है. 2018 की सीएजी रिपोर्ट नंबर 4 द्वारा किये गए खुलासे के बाद यह भ्रष्टाचार उजागर हुआ है. इसके मुताबिक, बिना किसी निविदा प्रक्रिया के एमपीएलएडी फंड से करीब 6 करोड़ का भुगतान किया गया, जिसमें 84,53,000 का फर्जी भुगतान शामिल है.''

स्मृति ईरानी ने सांसद बनने के बाद एक गांव गोद लिया था, दरअसल उन्होंने गांव गोद नहीं लिया, बल्कि गांव को मिलने वाले पैसे अपने जेब के अंदर किए. आणंद जिले के कलेक्टर ने संसद निधि जारी करने वाले डिप्टी सचिव को एक लेटर लिखा था. इसमें खुलासा हुआ है कि स्मृति ईरानी ने अपने सांसद निधि में घोटाला किया.

मामले पर कांग्रेस पार्टी का कहना है कि नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक(कैग) की रिपोर्ट के अनुसार ईरानी ने बिना टेंडर जारी कराए अपने करीबी एनजीओ को 6 करोड़ रुपया दिलाया है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पार्टी मुख्यालय में पत्रकार वार्ता कर कहा कि स्मृति ईरानी ने वितीय घोटाला कर जन धन का दुरुपयोग किया. उन्होंने कहा कि समय आ गया जब उनके खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधी धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज कर जांच हो.



सुरजेवाला के साथ संयुक्त पत्रकार वार्ता कर रहे गुजरात से पार्टी नेता शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि गुजरात के आनंद जिले के लिए स्मृति ईरानी ने अपनी सांसद निधि का उपयोग करना तय किया था. निधि के उपयोग की नियम-शर्तों के मुताबिक किसी भी ठेकेदार को सांसद निधि से 50 लाख से ज्यादा का ठेका नहीं दिया जा सकता है. इसके अलावा उसे लागू कराने वाली एजेंसी हमेशा सरकार ही रहती है. स्मृति ईरानी ने अपने कुछ लोगों द्वारा तैयार एक एनजीओ को यह ठेका दिया और उन्हें सांसद निधि के उपयोग की इम्पलीमेंटिंग एजेंसी भी बना दिया.





Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc