बालाकोट जाबा में जैशे मुहम्मद का कोई प्रशिक्षण शिविर ही नहीं, फिर कैसे मारे गए 300 आतंकी, पाक का दावा


''बालाकोट में भारतीय सेना की कार्रवाई और जैशे मुहम्मद के 300 आतंकियों के मरने के बारे में पाकिस्तान का कहना है कि बालाकोट जाबा में जैशे मुहम्मद का कोई प्रशिक्षण शिविर था ही नहीं. फिर किसी के मरने का कोई सवाल ही नहीं...''


बालाकोट पाकिस्तान के पख्तुनाख्वा प्रांत के मनशेरा जिले में स्थित है. बालाकोट इस्लामाबाद से लगभग 160 किलोमीटर दूर है. इसी बालाकोट के जाबा नामक स्थान पर भारतीय वायु सेना ने एयर स्ट्राइक की है और चरम पंथी संगठन जैशे मुहम्मद के प्रशिक्षण शिविर को पूरी तरह से बरबाद करने का दावा किया है. वहीं पाकिस्तान ने भारत सरकार द्वारा अंतर्राष्ट्रीय सीमा के उल्लंघन की बात तो स्वीकार की है, पर किसी तरह के जान माल के नुकसान की बात नहीं मानी है. उसका कहना है कि भारतीय जहाज सीमा पार कर पाकिस्तान में दो तीन किलोमीटर तक आए थे. पाकिस्तानी जहाजों द्वारा जवाबी कार्रवाई होने पर वे वापस लौट गये थे. जाते जाते वे खाली जगहों पर बम गिरा गये. इससे कुछ पेड़ जल गये और कुछ गड्ढे बन गये.

पाकिस्तान ने यहां आने के लिए अंतर्राष्ट्रीय मीडिया को न्यौता दिया था. पाकिस्तान का यह भी कहना है कि जाबा में जैशे मुहम्मद का कोई प्रशिक्षण शिविर नहीं था. स्थानीय निवासियों में से कुछ तो यहां के एक भवन को मदरसा बताते हैं तो कुछ इसे आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर. वैसे प्रथम दृष्टया इस भवन को पीछे से कोई नुकसान नहीं पहुँचा है. आगे का नीरिक्षण पाकिस्तान सरकार ने करने नहीं दिया. इसलिए स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई. हमले में मारे गये चरम पंथियों की संख्या के बावत अभी तक कोई आधिकारिक आंकड़ा भारत सरकार से नहीं मिल पाया है. 
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc