आसान नहीं मोदी की सत्ता में वापिसी, राहुल होंगे नए पीएम या कोई और बनेगा देश का नया चेहरा?


सोलहवीं लोकसभा के लिए चुनाव तारीखों की घोषणा हो गई है. सर्वे भी आने लगे हैं, हालांकि अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी, फिर भी माना जा रहा है किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत मिलता नहीं दिख रहा है. ऐसे में मोदी की सत्ता में वापिसी की राह आसान नहीं होगी. और तब क्या राहुल गांधी नए पीएम होंगे या कोई और नया चेहरा सामने आ सकता है? और यदि कोई नया चेहरा सामने आता है तो कौन होगा वो?

आज कुछ घंटे पहले ही लोकसभा चुनाव के लिए तारीखों की घोषणा होकर आदर्श आचार संहिता लागू हुई है. निर्वाचन आयोग ने चुनाव परिणाम के लिए 23 मई की डेट दी है, लेकिन हमारे देश का मीडिया 'कौन हार रहा है, कौन के सिर सजेगा ताज, बंधेगा साफा' का एलान करने लगा है. संभावनाओं के पीछे क्या है यह तो वही जानें, अलबत्ता इतना देश की जनता अवश्य जानती है कि अभी तो यह भी तय नहीं हुआ है कि कौन कहाँ से चुनाव लड़ेगा? ऐसे में कौन जीत रहा है, कौन हारेगा, कहना जल्दबाजी ही कही जायेगी.  

ABP न्यूज़ ने लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर अपने सी वोटर के हवाले से बता दिया है कि किस राज्य से कौन पार्टी जीत रही है, कौन पार्टी हार रही है? हालांकि यह भी बता दिया है कि चुनावों में किसकी नैया पार लगेगी ये तो आने वाला समय ही बता पाएगा. देखिये ABP न्यूज़ सी वोटर के अनुसार जनता का मूड - 

सर्वे के अनुसार लोकसभा सीटों के लिहाज से देश का सबसे बड़ा राज्य उत्तर प्रदेश में एनडीए को जबरदस्त नुकसान उठाना पड़ रहा है. यहाँ से 80 में से उसे केवल 25 सीट ही मिल रही बताया जा रहा है. ऐसे में जब कहा जाता है कि दिल्ली की सत्ता का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर गुजरता है, बीजेपी की सत्ता में वापिसी की राह आसान न होगी.  

इसके अलावा सर्वे में बताया गया है बिहार में बीजेपी, जेडीयू+एलजेपी मिलकर 40 में से 35 सीट ला सकती हैं. 

झारखण्ड में 14 में से 5, महाराष्ट्र में 48 में से 20 सीट एनडीए को मिलना बताया जा रहा है, लेकिन यहाँ शिवसेना को बहुत कम आंका गया है. यहाँ से यूपीए को 28 सीट मिलना बताया गया है. 

सर्वे की मानें तो गुजरात में मोदी का जादू कायम है. यहाँ से कुल 26 में से एनडीए को 24 सीट मिलना बताया गया है. 

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी का जादू बरकरार है. बीजेपी उसे कम नहीं कर सकी है. कुल 42 में से बीजेपी को केवल 7 सीट ही मिलना बताया गया है. ममता की टीएमसी को 34 सीट बताई गईं है. 

ओडिशा में कुल 21 से बीजेपी 12 सीट ला सकती है. बीजेडी- 9. 
पूर्वोत्तर की कुल 25 में से एनडीए 14, यूपीए- 9, अन्य- 2.
असम की कुल 14 में से एनडीए को 6 सीट मिलना बताया गया है. 

मध्यप्रदेश की कुल 29 में से एनडीए को 23 बताई गई हैं, जो कि कुछ ज्यादा लग रहा है. मध्यप्रदेश में हाल में कांग्रेस ने 15 साल के वनवास के बाद जबरदस्त वापिसी की है. इसी प्रकार छत्तीसगढ़ की कुल 11 में से एनडीए 5 बताई गई हैं, जो कि आसान नहीं होगा. 

राजस्थान की कुल 25 में से एनडीए को 18 बहुत ज्यादा बता दिया गया है. यहाँ भी हाल में बड़ी जीत दर्ज कर सत्ता में कांग्रेस है, जिसे केवल 7 सीट मिलना बताया गया है. 

उत्तर भारत (पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल, जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड) की कुल 45 में से एनडीए को 26, यूपीए को 19 मिलना बताया गया है. पंजाब की कुल 13 में से एनडीए 1 सीट ही ले पा रहा है. हरियाणा की कुल 10 में से एनडीए को 7 बताया गया है. 

दक्षिण भारत (तमिलनाडु, आंध्र, तेलंगाना, कर्नाटक, केरल) की कुल सीट 129 में से एनडीए 14, यूपीए 69 और अन्य को 46 सीट मिलना बताया गया है. 

कर्नाटक की कुल सीट 28 में से एनडीए, यूपीए को बराबर बराबर 14-14 सीट मिलना बताया गया है. 

सर्वे के अनुसार एनडीए 38%, यूपीए 32%, अन्य को 30% वोट मिल रहा है.  

किसे कितनी सीट?
कुल सीट 543 में से एनडीए 233, यूपीए 167, अन्य को 143 सीट मिलना बताया गया है. 

कुल मिला कर कहा जा सकता है कि किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत मिलता नहीं दिख रहा है. ऐसे में मोदी की सत्ता में वापिसी की राह आसान नहीं होगी. और तब क्या राहुल गांधी नए पीएम होंगे या कोई और नया चेहरा सामने आ सकता है? और यदि कोई नया चेहरा सामने आता है तो कौन होगा वो? अभी यह सब कयास ही हैं. चुनावों में किसकी नैया पार लगेगी, ये तो आने वाला समय ही बता पाएगा. और इसके लिए हमें निर्वाचन आयोग की तारीख 23 मई का इन्तजार करना होगा. 
ये भी देखें - 
राहुल के अलावा ये भी हो सकते हैं प्रधानमन्त्री पद के दावेदार


Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc