मैं मध्यप्रदेश का युवा हूँ, सुबह ढोर चराता हूँ, दिन में गड्डे खोदता हूँ, रात को बैंड बजाता हूँ



प्रतीक फोटो साभार google


''रोजगार के नाम पर केंद्र और राज्य सरकारों, बड़े नेताओं द्वारा बेरोजगार युवकों का जम कर मजाक बनाया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पकौड़ा तलने वाले बयान की आलोचना करने वाली कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने खुद भी अब देश के युवाओं को रोजगार देने के लिए पशु हांकने की ट्रेनिंग के प्रावधान के बाद शादी में बैंड-बाजा बजाने का प्रशिक्षण बाकायदा स्कूल खोलकर देने का फैसला किया है. फैसले की जम कर आलोचना हो रही है. सोशल मीडिया पर खूब खिल्ली उड़ाई जा रही है.''  



देश का पहला बैंड बाजा स्कूल छिंदवाड़ा में खुलेगा 
शुक्रवार को  CIA के एनुअल सेशन प्रोग्राम में पहुंचे सीएम कमलनाथ ने कहा कि हमारे यहां इतनी सारी शादियां और फंक्शन है, जिनमें बैंड बाजा बजता है तो लोगों का उत्साह बढ़ जाता है। कमलनाथ ने कहा कि वे चाहते हैं कि  देश भर में जो भी बैंड-बाजे बजाने वाले हों, वे मध्यप्रदेश के लोग हों. इसके लिए सरकार छिंदवाड़ा में बैंड ट्रेनिंग स्कूल खोलने का प्रयास कर रही है. 

पशु हांकने, चराने की ट्रेनिंग भी देगी सरकार  
इससे पहले सरकार ने युवाओं को ढोर गाय, भैंस, बकरी, सुअर आदि ढोरों (पशु) को हांकने व चराने का प्रशिक्षण देने की बात की और इसका प्रावधान युवा स्वाभिमान योजना में कर भी दिया है. 



मुख्यमंत्री कमलनाथ की युवाओं को बैंड बजाने की हाल की घोषणा पर खूब टीका टिप्पणी हो रही है. संजय गोविन्द खोचे सह मीडिया प्रभारी बीजेपी ने ट्विट कर कहा है - 
'मैं मध्यप्रदेश का युवा हूँ,  सुबह ढोर चराता हूँ, दिन में गड्डे खोदता हूँ, रात को बैंड बजाता हूँ. अन्धेरा कायम रहे. जय अन्धेरानाथ, तबादला सरकार की जय.'  




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc