क्यों और कैसे बन गया देशहित का बड़ा मुद्दा 'फुस्सी बम'




''हर मुद्दे की तरह ये देशहित का बड़ा मुद्दा, जबकि देश दुनिया की ऐसी चौथी शक्ति बना है, भी राजनीति की भेंट चढ़ गया. प्रधानमंत्री देश के हर व्यक्ति के लिए गर्व करने की बात बता रहे थे, और देश के लोगों ने उनके देश के नाम सन्देश को 'फुस्सी बम' तक कह डाला.''   



भारत ने अंतरिक्ष में एंटी मिसाइल से एक लाइव सैटेलाइट को मार गिराते हुए अब से 24 घंटे पूर्व अपना नाम अंतरिक्ष महाशक्ति के तौर पर दर्ज करा दिया. वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में 300 किलोमीटर दूर लो अर्थ ऑर्बिट में एक लाइट सैटेलाइट पूर्व निर्धारित लक्ष्य को मार गिराया. 

लेकिन हर मुद्दे की तरह ये देशहित का बड़ा मुद्दा, जबकि देश दुनिया की ऐसी चौथी शक्ति बना है, भी राजनीति की भेंट चढ़ गया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जिस प्रकार से देश के नाम सन्देश देंगे को पूर्व से प्रचारित किया, उससे लोग अचानक से देश के नाम सन्देश क्या हो सकता है, को लेकर आश्चर्य कर रहे थे, आखिर अचानक यह क्या हो सकता है, यहाँ तक कि कहीं पिंक नोट तो बंद नहीं हो रहे, जैसी बातें सोशल मीडिया पर चलीं. 

और बाद में जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के नाम सन्देश में बताया कि भारत ने एक लाइट सैटेलाइट पूर्व निर्धारित लक्ष्य को मार गिराया है. प्रधानमंत्री देश के हर व्यक्ति के लिए गर्व करने की बात बता रहे थे, और देश के लोगों ने 'फुस्सी बम' तक कह डाला. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए उन्हें वर्ल्ड थियेटर डे की बधाई दी. गलत राजनीति ने किस तरह एक बड़े सम्मान के विषय को भी रौंद डाला है. यह हमारे सबके लिए एक गंभीर सोच का विषय है. 



प्रधानमंत्री का राजनीति करना अति निन्दनीय 
बसपा सुप्रीमो मायावती ने परीक्षण की आड़ में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा राजनीति करने को अति निन्दनीय बताया. 

उन्होंने ट्वीट कर कहा, भारतीय रक्षा वैज्ञानिकों द्वारा अंतरिक्ष में सैटेलाइट उपग्रह मार गिराये जाने का सफल परीक्षण कर देश का सर ऊंचा करने के लिए उन्हें अनेकों बधाई, लेकिन इसकी आड़ में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा चुनावी लाभ के लिये राजनीति करना अति-निन्दनीय है. मायावती ने यह भी कहा कि चुनाव आयोग को इसका सख्त संज्ञान लेना चाहिए. 

...ये लोग कैसे करें गर्व ??
आम जनता की बात करें तो वह तो दो वक्त की रोटी में ही इतनी उलझी है कि कैसे गर्व करे? लोग लिख रहे हैं बेरोजगारी के सैटेलाइट पर कब मिसाइल चलेगी. 

इस बात से भी कैसे इनकार कर सकते हैं कि जब कोई तन ढकने के लिए कपडे, एक छत और दो जून की रोटी के लिए संघर्षरत होगा तो कैसे देश से जुड़े मुद्दों पर सहभागिता कर गर्व कर सकेगा. आजादी के इतने सालों बाद भी आम समस्याएं जस की तस हैं. राजनीति अलबत्ता खूब हो रही है. आम जनता को रोजगार स्वाभिमान से जीने के हक़ की जगह खैरात बाँटने का काम गलत राजनीति कर रही है. 15 लाख देंगे, कोई कहता है 72 हजार देंगे, लेकिन कोई यह नहीं कहता कि हर हाथ को काम देंगे.  

देखिये राजनीति की हालत दिखाती यह एक पोस्ट- 
पोस्ट किया है श्री Hirdesh Rathore जी ने.
यह रही -  
आज मुझसे किसान भी पूछ रहे कि भैया क्या सही में राहुल गांधी ने 72 हजार रुपये साल देने की घोषणा की है.
मैने बताया कि हा राहुल गांधी ने घोषणा की है.
तो किसान बोलता है कि फिर तो मेरा वोट सिर्फ मोदी जी को ही जायेगा.

मैने उनसे पूछा भैया की घोषणा तो राहुल गांधी ने की है और वोट आप मोदी जी को देने की बात कर रहे हैं? 
तो किसान बोला राहुल की बात का कोई भरोसा ही नही वो 10 दिन में दो लाख का कर्जा माफ करने की बोले थे 100 दिन में भी नही कर पाए. 
तो फिर यह 5 साल में 72 हजार रुपये देने की बात कर रहे है तो यह 50 साल में भी ना दे पाएंगे????
इस लिए मेरा वोट मोदी जो को

... और अब देख लीजिएगा प्रतिक्रियायें- 
श्री Arun Rathore जी लिखते हैं 
क्या बात करते हो।मोदी जी ने १५ लाख देने की बात की थी क्या मिले। सब एक ही थाली के चट्टे बट्टे हैं।

श्री Amar Ahuja जी लिखते हैं  Hirdesh Rathore ji लगता हे आपके खाते मे 15 लाख रुपए मोदी वाले आ ग्ये हे

श्री Azhar Mansoori  जी लिखते हैं  पापा से पूछों 15 लाख कब आएंगे

श्री Abhishek Sharma जी लिखते हैंलड़की वाले : आपका लड़का कितना कमाता है ?

लड़का वाले : फिलहाल तो निक्कमा है लेकिन राहुल के पीएम बनते ही 12000 महीना मिल जाएगा.. 

श्री Suresh Sharma जी लिखते हैं 1500000 पर भारी पड़ेंगे 72000

श्री जावेद खान सामान्य  जी लिखते हैं तो फिर भइया वो बिना ब्रेन का संतरी भक्त होगा😉

श्री  Arun Rathore जी लिखते हैं सब उल्लू बना के वोट लेने का तरीका है...sab ullu bana ke vote lene ka tarika hai

- चित्रांश 





Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc