चुनावी साल में जुमलों भरा बजट, साढ़े चार सालों में भारत में सबसे ज्यादा बेरोजगारी बढ़ी - कमल नाथ


''मुख्यमंत्री कमल नाथ ने केन्द्र सरकार द्वारा आज प्रस्तुत अंतरिम बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए उसे जुमलों भरा बजट बताया है। उन्होंने कहा है कि लोकसभा के चुनाव को देखते हुए यह बजट बनाया गया है।''

मुख्यमंत्री ने कहा कि दो हेक्टेयर तक की जोत वाले किसानों को 6000 रूपये सालाना देने का जो वादा किया है, वह बहुत कम है। इसका मतलब उन्हें हर महीने पाँच सौ रूपये मिलेंगे और हर दिन साढ़े सोलह रूपये पड़ेंगे। यह बहुत कम है। उन्होंने कहा कि किसानों को सबसे बड़ी राहत तब मिलती, जब उनका कर्जा केन्द्र सरकार माफ कर देती। कमल नाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार किसानों का कर्जा माफ करके उन्हें सबसे बड़ी राहत दे रही है।

कमल नाथ ने कहा कि केन्द्र सरकार ने वादा किया था कि हर नागरिक के खाते में 15 लाख रूपये आयेंगे और 2 करोड़ लोगों को रोजगार मिलेगा। दोनों वादे झूठे निकले। उन्होंने कहा कि साढ़े चार साल में भारत के इतिहास में बेरोजगारों की संख्या सबसे ज्यादा बढ़ी है। श्री कमल नाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में युवा स्वाभिमान योजना द्वारा शहरी गरीब युवाओं को रोजगार देने की शुरूआत की जा रही है।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन का हवाला देते हुए 29 वर्ष की आयु से पेंशन योजना से जुड़कर 100 रूपये प्रतिमाह जमा कर 60 साल की उम्र में प्रति माह 3000 रूपये पेंशन देने की घोषणा पर कहा कि जब तक हितग्राहियों को पेंशन मिलेगी, तब तक महँगाई इतनी ज्यादा बढ़ चुकी होगी कि पेंशन की राशि का वास्तविक मूल्य एक हजार गुना तक कम हो जायेगा। इसलिये यह पेंशन योजना सिर्फ दिखावा है। उन्होंने कहा कि बजट में गैर-कृषि भूमि मजदूरों के लिये कोई प्रावधान नहीं किया गया है।
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc