रोजगार की राह दिखाती उत्तराखंड की मशरुम गर्ल दिव्या रावत


जहां दुनिया में लोग जॉब पाने के लिए पागलों की तरह कंपनियों के चक्कर काटते हैं। अच्छी नौकरी के लिए दर-दर भटकते हैं, वहीं उत्‍तराखंड में एक लड़की दिव्या रावत ने शहर की अच्छी खासी नौकरी छोड़कर खेती करना चुना, जिसके बाद दिव्या रावत के इस फैसले ने उन्हें करोड़पति बना दिया है। आज दिव्या ना सिर्फ खुद एक सफल बिजनेस वुमन है, बल्कि लोगों के लिए एक आदर्श भी हैं। आज दिव्या की बदौलत पहाड़ों की हजारों महिलाओं को रोजगार भी मिला है।
दि संडे पोस्ट से आकाश नागर  


नौकरी छोड़ शुरू किया खुद का बिजनेस
दिव्या रावत उत्तराखंड की रहने वाली है, लेकिन पढ़ाई करने ले लिए वो दिल्ली आई थी। दिल्ली में रहकर दिव्या ने अपनी पढ़ाई पूरी की और जॉब करना शुरू कर दिया। दिव्या ने दिल्ली में रहकर कई नौकरियां कीं, लेकिन वो अपनी नौकरी से खुश नहीं थी। दिव्या इससे भी बेहतर कुछ करना चाहती थी। इसलिए दिव्या ने वापस उत्तराखंड लौटने का फैसला किया। 


उत्तराखंड वापस लौट कर दिव्या ने अपने खुद का बिजनेस शुरू करने का फैसला किया। बिजनेस के लिए दिव्या ने मशरूम उत्पादन का बिजनेस चुना। दिव्या ने एक छोटे से कमरे में 100 बैग मशरूम प्रोडक्‍शन का कारोबार शुरू किया। दिव्या रावत ने बिजनेस करने के लिए कदम आगे बढ़ाए तो मेहनत का किस्मत ने भी साथ दिया। वर्ष 2013 में तीन लाख का मुनाफा हुआ, जो लागत से कई गुना बढ़ा था।


हर साल करती हैं करोड़ों की कमाई
बस फिर क्या था, दिव्या खुद तो आगे बढ़ी ही हजारों और लोगों को मशरूम की खेती के लिए प्रेरित भी किया। उन्होंने लोगों को भी मशरूम का बाजार दिलवाया। आज दिव्या की 50 से ज्यादा यूनिट लग चुकी हैं, जिनमें महिलाएं और युवाओं को रोजगार मिल रहा है। 


इतना ही नहीं आज दिव्या की कंपनी का टर्नओवर 1 करोड़ रुपए से भी ज्यादा है। दिव्या लोगों को प्रेरित करने के लिए ट्रेनिंग भी देती है, ताकि वो खुद का बिजनेस शुरू कर सकें। इसके चलते ही उत्तराखंड सरकार ने दिव्या रावत को अपना ब्रांड एम्बेसडर बनाया है।


Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc