कांग्रेस को यूं ही नहीं थी निर्वाचन आयोग पर धांधली की शंका, मंत्रियों से निकट के रिश्ते उजागर




''मध्यप्रदेश में कांग्रेस को निर्वाचन आयोग पर धांधली की शंका यूं ही नहीं थी. सो वह पूरी सतर्कता बरत रही थी. अब जब परिणाम घोषित हो गए हैं तो शिवराज सरकार में मंत्रियों से निर्वाचन आयोग के निकट के रिश्ते उजागर हो रहे हैं. ''



मध्यप्रदेश सरकार में मंत्री रहीं अर्चना चिटनीस को निर्वाचन आयोग चुनाव परिणाम में 'अर्चना दीदी' संबोधित कर रहा है तो वहीं शिवराज सरकार में गृह मंत्री रहे भूपेन्द्र सिंह को निर्वाचन आयोग 'भूपेन्द्र भैया' संबोधित कर जीत का प्रमाण पत्र दे रहा है. गृह मंत्री रहे भूपेन्द्र सिंह सागर की खुरई से चुनाव जीत गए हैं तो वहीं मंत्री अर्चना चिटनीस को हार का सामना करना पड़ा है. वह बुरहानपुर से चुनाव हार गयी हैं. वहां से निर्दलीय प्रत्याशी सुरेन्द्र सिंह को जीत मिली है. 

जिस प्रकार से ईव्हीएम बीजेपी नेता के निजी होटल में मिलीं, 48 घंटे बाद तक जमा नहीं कराई गईं, पोस्टल वैलेट पड़े मिले, इस सबसे निर्वाचन आयोग पर सवाल उठना लाजिमी है. इसके बाद दुसरे दिन तक भी मतगणना चलती रही और पूरे परिणाम घोषित नहीं किये जा सके, उसे लेकर भी कई तरह की अटकलें और चर्चाएँ रहीं. सत्ता पक्ष के बारे में कहा जा रहा है आखिर तक कोशिशें की गईं हैं, वह तो कोई दांव चल नहीं सका. 

मध्यप्रदेश कांग्रेस के प्रदेश महासचिव सुनील शुक्ला ने बताया मध्यप्रदेश सरकार में गृह मंत्री रहे भूपेन्द्र सिंह को निर्वाचन आयोग 'भूपेन्द्र भैया' संबोधित कर रहा है तो वहीं मंत्री अर्चना चिटनीस को निर्वाचन आयोग चुनाव परिणाम में 'अर्चना दीदी' संबोधित कर रहा है. ऐसे में दूसरों को आचार संहिता की ताकीद करने वाला निर्वाचन आयोग खुद ऐसे काम कर रहा है तो निष्ठा पर सवाल उठाना और शंका पैदा होना स्वाभाविक है. 








Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc