एग्जिट पोल नतीजों के बाद बोले शिवराज 'मैं सबसे बड़ा सर्वेयर, प्रदेश में बनेगी भाजपा की सरकार'




''पांचों राज्यों में विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद 7 दिसंबर को आए एग्जिट पोल में कोई बीजेपी की सरकार बनवा रहा है तो कोई कांग्रेस की. मध्यप्रदेश में भाजपा की सरकार के सामने सत्ता में बने रहने की चुनौती है, तो वहीं कांग्रेस इस बार 15 वर्ष के वनवास ख़त्म होने की उम्मीद कर रही है. अलग अलग मीडिया समूहों के सर्वे के अलग अलग आंकड़े आने से स्थिति स्पस्ट नहीं हो सकी है, हालांकि अधिक जोर कांग्रेस के सत्ता में आने पर दिखा है. ऐसे में एग्जिट पोल के नतीजों पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वे सबसे बड़े सर्वेयर हैं और प्रदेश में भाजपा की सरकार बनेगी.'' 





पूरा विश्वास है तो फिर वह आत्मविश्वास चेहरे पर झलक क्यों नहीं रहा?  
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि उन्होंने पूरे राज्य का दौरा किया है और हर समय जनता के बीच घूमते रहते हैं. उन्होंने कहा कि वे सबसे सर्वेयर हैं और उनके सर्वे के मुताबिक उन्हें प्रदेश में बहुमत से भाजपा का सरकार बनाने का पूरा विश्वास है. दुसरी ओर कांग्रेस सत्ता में वापिसी के लिए पूरे आत्मविश्वास से लबरेज है. कांग्रेस के कई नेताओं का कहना है कि जब शिवराज सिंह चौहान को पूरा विश्वास है तो फिर वह आत्मविश्वास चेहरे पर झलक क्यों नहीं रहा है. साथ ही जब वह खुद ही इतने बड़े सर्वेयर हैं तो 4 माह से पार्टी और एजेंसियों से सर्वे क्यों करा रहे थे. 


मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 
कुल सीट 230 बहुमत का आंकड़ा 116

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की वापिसी तय     
चुनावी समर खत्म होने के बाद अब सभी को चुनाव नतीजों के लिए 11 दिसंबर को होने वाली मतगणना का इंतजार है, लेकिन 7 दिसंबर को राजस्थान और तेलंगाना में मतदान खत्म होने के बाद एग्जिट पोल ने चुनावी राज्यों में नतीजों का अनुमान लगाया. इसमें राजस्थान और तेलंगाना में बीजेपी का सूपड़ा साफ़ होता दिख रहा है, वहीं मध्यप्रदेश में कांग्रेस की वापिसी तय मानी जा रही है, तो छत्तीसगढ़ में कांटे की टक्कर बताई जा रही है एवं मिजोरम में एमएनएफ भारी बहुमत से सरकार बना रही बताया गया है. 



कांग्रेस के समक्ष चुनौतियां    
मध्यप्रदेश में बीते 28 नवंबर को सभी 230 सीटों पर मतदान हुए थे. भाजपा की पिछले 15 साल से सूबे में सरकार है. शिवराज सिंह ने लगातार चौथी मुख्यमंत्री बनने के लिए पूरी ताकत लगा दी. चुनावी पंडित इस विधानसभा चुनाव को शिवराज को चुनने या नकारने के बीच चुनाव मान रहे हैं. राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार बना भी लेती है तो भी उसके लिए बड़ी चुनौतियां सामने होंगी. बजह है कि इस बार प्रदेश में चुनाव बीजेपी कांग्रेस का नहीं होकर 'सरकार विरुद्ध जनता' रहा है. प्रदेश का खजाना खाली है ऐसे में भारी लोक लुभावन घोषणाएं जिनमें प्रमुख किसानों का कर्ज माफ़ है, पर काम करना आसान नहीं होगा. 





Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc