सबरीमाला मंदिर खुला, वार्षिक पूजा हुई, महिलाओं के प्रवेश को लेकर विरोध जारी

 

''तृप्ति ने एलान किया था कि वो मंदिर में दाखिल होंगी और भगवान अयप्पा के दर्शन करेंगी। लेकिन प्रदर्शनकारियों ने कोच्चि एयरपोर्ट से उन्हें सबरीमाला मंदिर नहीं जाने दिया।'' 

केरल के सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर विरोध जारी है। मंदिर में दर्शन के लिए शुक्रवार तड़के पुणे से कोच्चि पहुंचीं भूमाता ब्रिगेड की संस्थापक तृप्ति देसाई और उनकी छह महिला साथियों को भारी विरोध का सामना करना पड़ा। सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति और उनकी महिला साथी एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकल पाईं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, तृप्ति देसाई पिछले12 घंटे से कोच्चि एयरपोर्ट पर ही हैं। तृप्ती देसाई आज रात अपने गृहनगर पुणे लौट जाएंगी।

तृप्ति ने एलान किया था कि वो मंदिर में दाखिल होंगी और भगवान अयप्पा के दर्शन करेंगी। लेकिन प्रदर्शनकारियों ने कोच्चि एयरपोर्ट से उन्हें सबरीमाला मंदिर नहीं जाने दिया। शुक्रवार शाम मंदिर के कपाट दो महीने के लिए खोले गए और वार्षिक पूजा हुई। वहीं एहतियात के तौर पर मंदिर परिसर में भारी संख्या में पुलिस कमांडो तैनात किये गये हैं। मंदिर में हर उम्र की महिलाओं को प्रवेश दिए जाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का केरल में विरोध हो रहा है।

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc