प्रशासनिक अधिकारियों के निर्णय नैतिकता पर आधारित होने चाहिए


''प्रशासनिक अधिकारियों के निर्णय नैतिकता पर आधारित होने चाहिए. साथ ही हमें राष्‍ट्रपिता महात्मा गांधी के बताए मार्ग पर चलते हुए निर्णय लेते वक्त यह ध्यान रखने की भी जरूरत है कि आपके निर्णय से गरीब आदमी के उपर उसका क्‍या प्रभाव पड़ रहा है. और इस प्रकार के जन हित में निर्णय लेने में अनुभव काफी काम आता है.'' 

भोपाल 13 अक्टूबर 2018. आज शनिवार को चार ईमली स्थित आइ.ए.एस. गेस्‍टहाउस परिसर में भारतीय प्रशासनिक सेवा मध्यप्रदेश कैडर के 1959 बैच के पूर्व अधिकारी श्री प्रतीप के. लेहरी की नई पुस्तक ''ए टाइड इन दि अफेयर्स ऑफ मैन'' पर मध्यप्रदेश आई.ए.एस. ऑफीसर्स एसोशिएसन एवं क्‍लब लिट्रेटरी द्वारा चर्चा आयोजित की गई. इसमें भाग लेते हुए पुस्तक के लेखक श्री प्रतीप के. लेहरी ने यह बात कही. 

इस अवसर पर भारतीय प्रशासनिक सेवा के पूर्व अधिकारी श्रीमती निर्मला बुच, श्री गोपाल शरण शुक्ला, श्री के.एम. आचार्य, श्री सुमित बोस, श्री अजित रायजादा, श्री अजय नाथ तथा पुलिस सेवा के पूर्व अधिकारी श्री सुभाष चन्द्र त्रिपाठी और श्री अरूण गुर्टू भी उपस्थित थे. मध्यप्रदेश आई.ए.एस. ऑफीसर्स एसोशिएसन की अध्यक्षा श्रीमती गौरी सिंह, सचिव डॉ. संजय गोयल, एवं सदस्‍यगण श्री मोहम्मद सुलेमान, श्रीमती पल्लवी जैन, श्री राजेश मिश्रा, वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी, मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी भोपाल श्री मनोज द्विवेदी सहित बड़ी संख्या में आईएएस अधिकारी उपस्थित थे. 

कार्यक्रम के प्रारंभ में श्रीमती गौरी सिंह ने श्री प्रतीप के लेहरी को पुष्प गुच्छ भेंट कर स्वागत किया. श्रीमती पल्लवी जैन ने पुस्तक पर समीक्षा प्रस्तुत की. लेखक श्री लेहरी ने पुस्तक के विभिन्न अंशों को अपने भाषण में विस्तार से बताया. उन्होंने खण्डवा, इंदौर एवं गुना में कलेक्टर रहते हुए प्रशासनिक निर्णयों के संबंध में भी जानकारी दी.

कार्यक्रम का संचालन श्रीमती सीमा रायजादा ने किया तथा आभार मध्यप्रदेश आई.ए.एस. ऑफीसर्स एसोशिएसन के सचिव डॉ. संजय गोयल ने व्यक्त किया.

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc