इसे कहते हैं तोड़-फोड़, पूरी नगर पंचायत ही भाजपा में शामिल


''चुनाव क्या आये, नेता लोग तोड़-फोड़ करने लगे. और लोग इधर से उधर होने लगे. देख लीजिये कैसे कैसे पूरी नगर पंचायत ही कांग्रेस से बीजेपी की हो गई. लोग यह भी कह रहे हैं खरीदने वाले में दम हो तो क्या नहीं बिकता.'' 
अशोकनगर से पत्रकार कुमार संभव की रिपोर्ट 

ईसागढ़ नगर पंचायत को जनता ने कांग्रेस के लिए बहुमत दिया था. ईसागढ़ नगर पंचायत में कांग्रेस के 11 पार्षद चुनकर आये थे, जबकि बीजेपी के मात्र 4 पार्षद चुने गए थे. इस प्रकार पूरी ईसागढ़ नगर पंचायत कांग्रेस की थी. भूपेंद्र नारायण द्विवेदी कांग्रेस से अध्यक्ष चुने गए थे, लेकिन अब वैसा नहीं है. अब सभी बीजेपी के हो गए हैं.  

अध्यक्ष भूपेंद्र नारायण द्विवेदी, पूर्व अध्यक्ष श्रीमती वंदना द्विवेदी, उपाध्यक्ष भगवत दयाल सेन, पार्षद गण लियाकत खान, संतोष सेन, दुष्यंत साहू, हरी जाटव, भानु सिंह लोधी, मुकेश शर्मा, राजकुमार और रामदयाल ग्वाल सभी को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा, महामंत्री सुहास भगत, मंत्री नरोत्तम मिश्रा आदि ने अपनी उपशिती में भाजपा में शामिल करा दिया है.  

अब ईसागढ़ की पूरी नगर पंचायत भाजपा की हो गई है. 
पूर्व में 11 पार्षद कांग्रेस के और चार भाजपा के थे, लेकिन अब सभी 11 पार्षदों ने अध्यक्ष सहित भाजपा की संस्था ग्रहण कर ली है. इसके बाद ईसागढ़ में कांग्रेस का कोई पार्षद नहीं बचा है. 
ईसागढ़ नगर पंचायत में कुल 15 पार्षद हैं. 
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc