धाराप्रवाह बोलने वाले शिवराज ने गृह नगर में 10 मिनिट में ही बोल दी 'भारत माता की जय'




''40 मिनिट तक धाराप्रवाह बोलने वाले शिवराज ने अपने गृह नगर की सभा में 10 मिनिट में ही भारतमाता की जय बोल दी। दरअसल ये सभा नसीहत है शिवराज जी को कि वे अपने प्रशासन और टीम पर कितना भरोसा करें। सब लुटिया डुब्वाने पर उतारू हैं।'' 




विदिशा से गोविन्द सक्सेना 



मंगलवार देर शाम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विदिशा में अटल बिहारी वाजपेई मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन करने पहुंचे। मुख्यमंत्री के भाषण के दौरान यहां बनाया गया विशाल पांडाल लगभग खाली था।विदिशा में ये पहला मौका था जब CM शिवराज सिंह चौहान की सभा थी, शिवराज जी भाषण दे रहे थे और लगभग आधे से ज्यादा पंडाल खाली हो गया। दिखावे के तमाम इंतजामो के बावजूद कांग्रेसी CM को उन्ही के नगर में काले झंडे दिखाने में कामयाब हो गए। प्रशासन के आदेश पर भीड़ बढ़ाने ढोकर लाये गये स्कूली बच्चे अनमने ढंग से घण्टों बैठे रहे और सीएम का मात्र 10 मिनिट का भाषण खत्म होने से पहले ही पंडाल खाली कर गए। क्यों हुआ ऐसा। कौन है चुनाव के ऐनवक्त पर CM के नगर में उनकी इस फ़ज़ीहत का जिम्मेदार। प्रशासन के बेतुके फैसले या बीजेपी के बड़बोले नेताओ की हेंकड़ी। शिवराज जी की इस सभा को सफल बनाने करीब 8 रोज पहले अग्रवाल धर्मशाला में बीजेपी की बड़ी बैठक हुई थी, जिसमे संगठन मंत्री आशुतोष जी शामिल हुए थे। 
गृह नगर में CM शिवराज को दिखाए गए काले झंडे 
बैठक में जिले भर से करीब 1200 बीजेपी नेता शामिल हुए थे। सब ने बड़ी संख्या में लोगो को सभा में लाने का दम भरा था। लेकिन क्या हुआ। कहाँ गई इन नेताओं की हेकड़ी, या ये माने की अब बीजेपी नेताओं की उनके ही क्षेत्र में सुनने वाले नही बचे, अगर कार्यकर्ता ही पूरे आ जाते तो पंडाल नही स्टेडियम छोटा पड़ जाता।

लेकिन शायद प्रशासन इस स्थिति को भांप चूका था, तभी तमाम निजी और सरकारी स्कूल कालेज के स्टूडेंट्स को CM की सभा में पहुंचने का फरमान संस्थाओं को जारी किया गया। बसें लगा दी गई, क्योंकि शिक्षण संस्थाएं ही भीड़ बढ़ाने का सबसे सरल और अंतिम साधन है। भेड़ बकरियों की तरह जिधर हांक दो, उधर ही चले जायेंगे ये बच्चे। एक तरफ के पंडाल में सिर्फ स्टूडेंट्स ही मौजूद थे, घण्टों बैठे रहे, शेष दूसरी तरफ में आधे नेता, कार्यकर्ता, कर्मचारी, अधिकारी और मुट्ठी भर आम लोग। 

अचरज है कि प्रशासन को ये समझ नही आया कि सुबह से अपने स्कुल कालेज के लिए घरों से निकले इन बच्चो, खासकर बेटियो का क्या होगा। वे घण्टों कैसे रुक सकेंगे। नतीजा ये हुआ कि बिना सोचे समझे घेरकर लाये गये इन बच्चों में से अधिकांश CM का भाषण बीच में ही छोड़कर वापस चले गए। 

जहाँ तक CM की सुरक्षा का सवाल है तो वह भी उन्ही के नगर में पूरी तरह फ़ेल नज़र आईं। तब विदिशा का इंटेलिजेंस सिस्टम कहाँ गया जब CM को कार्यक्रम स्थल से चंद मीटर दूर कांग्रेसियो ने काले झंडे दिखा दिए। कांग्रेसियो ने भी ये अचानक नही किया, सबको पता था आज ऐसा होने वाला है, लेकिन चिट फंड कम्पनी के एजेंटो, सपाक्स के लोगो के लिए दौड़ भाग करती पुलिस ये पता क्यों नही कर पाई की कांग्रेसी किस सुरंग में घुसे है। मज़े की बात तो ये है कि CM का रूट तय था, उसकी रिहर्सल भी हो चुकी थी, लेकिन ऐनवक्त पर उनको बायपास के रास्ते लाया गया, इस बदले हुए रास्ते की खबर काला झंडा दिखाने वालों को हो गई लेकिन पुलिस और इंटेलिजेंस को पता नही चल सका कि कांग्रेस के लोग कहाँ है। बलिहारी है हमारे सिस्टम की। 

यकीनन, शिवराज जी भी इस दौरे से सबक लेकर गए होंगे। वे भी अपसेट थे, तभी पहली बार उनका भाषण बिना किसी लाग लपेट के मात्र 10 मिनिट में खत्म हो गया। 40 मिनिट तक धाराप्रवाह बोलने वाले शिवराज ने 10 मिनिट में ही भारतमाता की जय बोल दी। दरअसल ये सभा नसीहत है शिवराज जी को कि वे अपने प्रशासन और टीम पर कितना भरोसा करें। सब लुटिया डुब्वाने पर उतारू हैं। फिर वे नेता भी आत्म चिन्तन करें कि जिसे वे आंधी नही तूफान कहते हैं उनकी सभा में उनका क्या योगदान रहा। और प्रशासन भी सोचे की CM की उनके ही नगर में इतनी फ्लॉप सभा के कारण क्या थे। मंथन कर सफलता का अमृत निकलना बहुत जरूरी है, अन्यथा हालात तो बदल ही रहे हैं। होईहे वही जो राम रुचि राखा...



Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc