राफेल संवेदनशील मुद्द, आक्षेप के बाद विपक्ष बातचीत का हकदार नहीं -रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण


''अरबों डॉलर के राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि भारत की रक्षा तैयारियों से जुड़े बेहद संवेदनशील मुद्दे पर आक्षेप लगाने के बाद विपक्ष बातचीत का हकदार नहीं है. सीतारमण ने कहा कि पाकिस्तान और चीन द्वारा स्टेल्थ लड़ाकू विमान शामिल कर अपनी हवाई शक्ति तेजी से बढ़ाए जाने के मद्देनजर सरकार ने आपातकालीन कदम के तहत राफेल लड़ाकू विमानों की केवल दो स्क्वाड्रन खरीदने का फैसला किया.''

रक्षा मंत्री से जब पूछा गया कि क्या सरकार विपक्षी दलों से उस तरह बात करेगी, जिस तरह तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 2005 में विपक्ष को विश्वास में लिया था और अमेरिका के साथ असैन्य परमाणु करार को अंतिम रूप देने के वास्ते मार्ग प्रशस्त करने के लिए उनकी आशंकाओं का समाधान किया था. इस पर उन्होंने विपक्ष बातचीत का हकदार नहीं है, जैसी तल्ख़ टिपण्णी की. 

उन्होंने कहा कि ऐसे में क्या उन्हें (विपक्ष) बुलाने और सफाई देने का कोई मतलब है? वे देश को ऐसी चीज पर गुमराह कर रहे हैं, जो संप्रग सरकार के दौरान हुई ही नहीं थी. विपक्ष आरोप भर लगा रहा है और कह रहा है कि फर्जीवाड़ा हुआ है, जबकि उसे वायुसेना की अभियानगत तैयारियों की चिंता करना चाहिए. 
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc