धर्म के ज्ञान का अभाव के कारण बढ़ रहे हैं अपराध और भ्रष्टाचार


''धर्म के ज्ञान का अभाव के कारण अपराध की अधिकता और धार्मिक कार्यो की लुप्तता देखने को मिलती है. भ्रष्टाचार भी इसी सोच का परिणाम है. धर्म हमें गलत कार्य करने से रोकता है और व्यक्ति के मन में नरक का भय दिखा कर उसे दंड व्यवस्था पर यकीन करवाता है. इस कारण वह पाप यानि कि गलत कार्य करने से पहले सौ बार सोचता है और सद्गति प्राप्ति के लिए प्रयत्न करता है.'' 



– संध्या चतुर्वेदी, मथुरा 

र्म के विषय में एक श्लोक है- 'स्वधर्मे निधनं श्रेयः परधर्मो भयावहः' अर्थात अपने धर्म के लिए मरना भी श्रेष्ठ है. दूसरे धर्म के लिए मरना भयानक यानि की पीड़ा पहुंचाने वाला है. हिंदू धर्म में कहा गया है कि अपने धर्म के लिए अगर जान भी देनी पड़े तो व्यक्ति को संकोच नहीं करना चाहिए, क्योंकि अपने धर्म के लिए मरने पर गति की प्राप्ति होती है. व्यक्ति को यत्नपूर्वक अपने निज धर्म की रक्षा करनी चाहिए और किसी भी धर्म की निंदा सुनने से बचना चाहिए, लेकिन आजकल अज्ञानता के कारण हमें अपने धर्म की पूर्णता और उसके विषय की जानकारी के अभाव में व्यक्ति अपने धर्म का मजाक उड़ाते बनाते देखे जा सकते हैं. अक्सर आपको हिंदू धर्म के जोक्स देखने और सुनने को मिल जाएंगे, जिसका उत्तरदायित्व हम हिंदुओं पर ही है, क्योंकि हमने अपने धर्म का विस्तार तो किया परंतु प्रचार करने में चुक हो गई. 

अपनी भावी पीढ़ी तक धर्म का दायित्व बोध कराने में हम शायद असमर्थ हो गए हैं. कारण यह भी कि हमें अपनी जिम्मेदारियों का एहसास नहीं, जो धर्म सबसे अधिक प्राचीन है, जिसकी प्रमाणिकता पर गहन अध्ययन और रिसर्च कर के वैज्ञानिक भी प्रमाणपत्र दे चुके हैं. उसी धर्म को आज लुप्त होने की कगार पर पहुंचा दिया गया है. यह हम कह सकते हैं, क्योंकि हमारे लिखे गए वेद ग्रंथ की जानकारी आज किसी को नहीं. यह बात अलग है कि अंग्रेज भी और वैज्ञानिक भी गहन अध्ययन करके गीता के श्लोक पर रिसर्च प्रमाणित किया जा चुका है. शब्द, यानि ध्वनि अंतरिक्ष में गूँजती रहती है.

आज वैज्ञानिक रिसर्च कर के भगवान कृष्ण के वाणी ध्वनि को कैद करना चाहते हैं. 'ॐ' शब्द की ध्वनि को अंतरिक्ष में सुना जा चुका है, जो कि प्रमाणित है. दुःखद ये है कि हम अपने बच्चों को सँस्कृति और संस्कार दोनों नहीं दे पा रहे. यही कारण है कि आज धर्म की क्षति हो रही है. 

अगर सभी अपने अपने धर्म का पालन, वेदों या निजी धर्म ग्रन्थों, जैसे गीता, बाइबल, कुरान और गुरुग्रन्थ के अनुसरण से करें तो सद्गति तो निश्चय ही मिलेगी, देश भी स्वर्ग और जन्नत से कम हसीन ना होगा.
धरती पर ही स्वर्ग होगा, लेकिन ये सब किताबी बातें कौन मानता है.
इसी को थोडा़ पलट कर मैं देश के विषय में भी कह सकती हूँ - 
'स्वदेशे निधनं श्रेयः परदेशो भयावहः'
पर आज कल उल्टा हो गया है, सभी को अपने धर्म का पूर्णताः ज्ञान का भाव है.
'स्वधर्म निन्दनम श्रेयः, पर धर्मो श्रेष्टम.'
सच यही है कि धर्म के ज्ञान का अभाव के कारण अपराध की अधिकता और धार्मिक कार्यो की लुप्तता देखने को मिलती है. भ्रष्टाचार भी इसी सोच का परिणाम है. धर्म हमें गलत कार्य करने से रोकता है और व्यक्ति के मन में नरक का भय दिखा कर उसे दंड व्यवस्था पर यकीन करवाता है. इस कारण वह पाप यानि कि गलत कार्य करने से पहले सौ बार सोचता है और सद्गति प्राप्ति के लिए प्रयत्न करता है.

आज कल के समय में किसी को समय नहीं कि वो ग्रन्थों को सुने, सोचे और माने. सब अपने मन की बात मानते हैं और सिर्फ भौतिक सुख प्राप्ति में लगे रहते हैं. अब वर्तमान इस प्रकार की सामाजिक सोच हिंदू धर्म को किस पैमाने पर ले जायेगी सोचनीय है.

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc