राजनीति में स्वच्छता के लिए सपाक्स का चुनावी शंखनाद, 'शंख' हो सकता है चुनाव चिन्ह, 30 सितंबर तक बुलाए आवेदन




''सपाक्स गांधी जयंती से राजनीति में स्वच्छता के लिए अभियान शुरु करेगी। इस अभियान के तहत गांधीजी की प्रतिमा और तस्वीर पर माल्यार्पण  कर राजनीतिक से गंदगी दूर कर समाज के विभिन्न वर्गों में भेदभाव दूर करने का आह्वान किया जाएगा।'' 



भोपाल. सपाक्स समाज के सचिव हरिओम गुप्ता ने सभी 51 जिलों में सपाक्स की सीट पर चुनाव लड़ने के इच्छुक उम्मीदवारों से नाम मांगे है। उनका कहना है कि जो भी उम्मीदवार टिकिट चाहते है उन्हे अपने आवेदन के साथ सपाक्स की जिला कार्यकारिणी की अनुशंसा भी देना होगा। जिला पदाधिकारियों के अनुमोदन के बाद ही उनके आवेदन मान्य किए जाएंगे।

इधर पार्टी के संरक्षक हीरालाल त्रिवेदी का कहना है कि दो अक्टूबर से प्रदेश भर में सपाक्स के पार्टी कार्यालय शुरू किए जाएंगे। दो अक्टूबर को सपाक्स राजनीति में स्वच्छता लाने अभियान शुरू करेगी। गांधीजी की प्रतिमा और तस्वीर पर माल्यार्पण कर अभियान की शुुरुआत की जाएगी। इसमें राजनीति से गंदगी दूर करने, भेदभाव की नीति खत्म कर संघर्ष का आव्हान किया जाएगा। 

सपाक्स के बारे में, सपाक्स की नीतियों के बारे में आम लोगों को बताया जाएगा। जातिगत आधार पर आरक्षण के स्थान पर आर्थिक आधार पर आरक्षण लागू करने, एट्रोसिटी एक्ट सुप्रीम कोर्ट की मंशा के अनुरुप लागू करने, पदोन्नति में आरक्षण  और अन्य मुद्दों पर लोगों से बात की जाएगी।

सपाक्स ने राजनीतिक दल के रुप में मान्यता प्राप्त करने के लिए भारत निर्वाचन आयोग और मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय को आवेदन दिया है। पार्टी ने अपना चुनाव चिन्ह और झंडे के लिए तीन-तीन विकल्प दिए है। पार्टी चाहती है कि 'शंख' चुनाव चिन्ह उसे मिल जाए, ताकि शंख से चुनावी शंखनाद किया जा सके। इसके अलावा ट्रेक्टर और एक अन्य चुनाव चिन्ह भी मांगा गया है।




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc