बाढ़ पीड़ितों के लिए हर ओर से उठ रहे हाथ


''केरल में बाढ़ और बारिश ने बहुत के गांवों और शहरों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है. केंद्र और राज्य सरकारों की ओर से लगातार बचाव और राहत कार्य जारी है. वहीं मदद करने वालों की भी कमी नहीं है. मदद के लिए हर ओर से हाथ उठ रहे हैं. कोच्चि की मेयर सौमिनि जैन ने तो अपनी अकेली बेटी की शादी के लिए जमा किए सारे पैसे बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए दान कर दिए हैं.''

- अरविन्द जैन 
बताया जा रहा है कि जैन की बेटी की शादी बुधवार को होने वाली थी, लेकिन इस आपदा के बीच परिवार ने शादी समारोह साधारण तरीके से करने का फैसला कर बचत राशि बाढ़ पीड़ितों को देने का निर्णय किया.


इसी प्रकार एक नामी गिनामी व्यक्ति ने अपनी बेटी के शादी के लिए जुटाये पैसों को बाढ़ पीड़ितों के लिए दान कर दिया. मलयालम के एक एक्टर ने अपनी शादी को बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए टाल दिया. महाराष्ट्र से भी लोग मदद के लिए आगे आ रहे हैं. महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले की मुम्बई में देह व्यापार में शामिल महिलाओं ने केरल के बाढ़ पीड़ितों के लिए 21 हजार रुपये दान में दिए हैं. 

सेना के तीनों अंग और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल जैसी राहत एवं बचाव एजेंसियों के लोग विकट संकट में फंसे लोगों के लिए देवदूत बनकर उभरे हैं. बड़े ही नहीं, बल्कि बच्चे भी केरल की मदद के लिए आगे आए हैं. तमिलनाडु की नौ वर्षीय एक बच्ची ने साइकिल खरीदने के लिए चार साल तक जमा की गई अपनी राशि केरल में राहत कार्यों के लिए दान कर दी है. उसके इस काम से प्रभावित होकर साइकिल बनाने वाली कंपनी हीरो साइकिल्स ने अब बच्ची को उसके सपनों की साइकिल तोहफे में देने का वादा किया है.

राज्य के विल्लुपुरम क्षेत्र की अनुप्रिया ने टीवी पर केरल की तबाही देखने के बाद चार साल तक जमा की गई 9,000 रुपये की अपनी बचत को दान करने का फैसला किया. उसने यहां संवाददाताओं से कहा ''मैंने साइकिल खरीदने के लिए पिछले चार साल में पैसे (करीब 9,000 रुपये) जमा किए थे, लेकिन मैंने टीवी पर केरल की बाढ़ के दृश्य देखे और राशि दान करने का फैसला किया.''

अब तक बाढ़ और बारिश से यहां 340 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 20 हजार करोड़ रुपये से अधिक के नुकसान होने का आंकड़ा सामने आया है. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc