बिहार के दूसरे बालिका गृहों में भी बालिकाओं का यौन शोषण होता है - अतुल अंजान




''पिछले कुछ दिनों से मुजफ्फरपुर बालिका गृह में 34 लड़कियों से हुए यौन शोषण का मामला सुर्खियों में है. घटना के विरोध में माकपा हमलावर है. आज वाम दलों ने बिहार बंद का आह्वान किया. राजद समेत विपक्षी दलों ने भी इस बंद का समर्थन किया. घटना के संबंध में माकपा राष्ट्रीय सचिव अतुल अंजान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर गंभीर आरोप लगाये हैं. उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आरोपियों को संरक्षण दे रहे हैं. साथ ही बिहार के दूसरे बालिका गृहों में भी बालिकाओं का यौन शोषण होता है.''



अतुल अंजान ने कहा कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले का आरोपी बिहार में कुल तीन अखबारों का मालिक है. उन अखबारों को खूब सरकारी विज्ञापन मिलता है. उन्होंने आरोप लगाया है कि आरोपी को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की कृपा प्राप्त है. उन्होंने कहा बिहार में बेटियां सुरक्षित नहीं हैं. मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले का जो आरोपी है वह पीआईबी (प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो) से मान्यता प्राप्त पत्रकार है. 

उन्होंने कहा 'जब से बिहार में जदयू-भाजपा गठबंधन की सरकार बनी है तब से कानून व्यवस्था चरमरा गई है. सीएम नीतीश कुमार के शासन में चोरी, डकैती, बलात्कार, गुंडई जैसी घटनाएं बढ़ गई हैं. हत्यारों को पनाह भी दिया जाता है. इसी के साथ उन्होंने नीतीश कुमार को 'सुशासन बाबु' की जगह ‘व्यभिविचार कुमार’ बताया और कहा कि बिहार में शराबबंदी है, लेकिन शराब फिर भी मिलती है, बल्कि होम डिलेवरी होती है.' उन्होंने आरोप लगाया कि बिहार के दूसरे बालिका गृहों में भी बालिकाओं का यौन शोषण होता है. 

वाम दलों के एक दिन के बिहार बंद का व्यापक असर देखने को मिला है. कई ट्रेनें रोकी गई. सड़क जाम किया गया. पटना के सभी निजी स्कूलों को भी बंद किया गया है. 

  




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc