मराठा आन्दोलन, फडणवीस सरकार ने किया आग में घी का काम -शिवसेना


''महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण को लेकर मचे बवाल के बाद अब शिवसेना ने मुख्यमंत्री देंवेद्र फडणवीस पर निशाना साधा है. शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में मराठा आंदोलन की तुलना 1992 के दंगों से की है.''

सामना में लिखा गया है कि मुख्यमंत्री देंवेद्र फडणवीस वैसे तो 'सब कुछ मैं' की भूमिका में होते हैं, लेकिन पूरा महाराष्ट्र आरक्षण की आग में जला तब मुख्यमंत्री देंवेद्र फडणवीस कहां थे. पिछले एक हफ्ते से मराठा समुदाय परली में धरना प्रदर्शन कर रहा था. उस वक्त भी मुख्यमंत्री ने चर्चा नहीं की. यदि सीएम समय रहते कोई कदम उठाते तो महाराष्ट्र नहीं जलता और ना ही काकासाहेब शिंदे की मृत्यु होती.'

शिवसेना मुखपत्र में यह भी लिखा गया है कि मराठा आंदोलन पहले तो शांति से पूरे महाराष्ट्र में हो रहा था, लेकिन इस आंदोलन की आग में घी डालने का काम फडणवीस सरकार ने किया. सरकार ने 70 हजार सरकारी भर्ती निकाली और मराठा समुदाय के नौकरियों में आरक्षण की मांग को नजरअंदाज कर दिया. आरक्षण के कारण नौकरी ना मिलने की बात ने मराठा समुदाय के युवाओं में एक डर को जन्म दे दिया और लोग सड़कों पर उतर आए और हिंसा भड़की.

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc